Breaking News

शिक्षक दिवस पर ABVP के द्वारा गुरू-शिष्य परंपरा पर विशेष चर्चा का आयोजन

लाइव खगड़िया : शिक्षक दिवस के अवसर पर बुधवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं के द्वारा कोशी काॅलेज में गुरु-शिष्य की परंपरा पर एक विशेष चर्चा का आयोजन किया गया.वहीं चर्चा के उपरांत परिषद के कार्यकर्ताओं ने सभी शिक्षकों से आशीर्वाद प्राप्त किया.मौके पर कोशी काॅलेज प्राचार्य संजीव नंदन शर्मा ने अपने संबोधन में कहा छात्र संगठनों की सराहना करते हुए कहा कि संगठन द्वारा विभिन्न मुद्दों को लेकर कॉलेज में आंदोलन किया जाता रहा है लेकिन किसी कार्यकर्ता ने किसी भी शिक्षक-शिक्षिका व कर्मचारी के साथ कोई बदसलूकी नहीं की है.जो कि एक गौरव की बात है.वहीं उन्होंने विद्यार्थी परिषद के कार्यों की सराहना करते हुए कार्यकर्ताओं से शिक्षा के मंदिर में छात्र-छात्राओं को सहयोग तथा शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए पूरी निष्ठा से कार्य करने का वचन मांगा.जिसपर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने शिक्षकों को आश्वस्त करते हुए कहा कि विद्यार्थी परिषद “ज्ञान शील एकता” पर आधारित छात्र संगठन है और हम सभी कार्यकर्ता अपने छात्र जीवन में इसे हमेशा स्मरण रखते हुए इसी के अनुरूप छात्र हित के लिए कार्य करते हैं.वहीं कॉलेज के शिक्षक मनोज कुमार तथा राज कुमार जी ने कहा कि विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता शिक्षकों के सम्मान में हमेशा शीश झूकाते रहे हैं और साथ ही गुरु पूर्णिमा व शिक्षक दिवस जैसे विशेष मौके पर शिक्षकों से आशीर्वाद लेना भी नहीं भूलते हैं. चर्चा के उपरांत विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक कुमार शानु ने शिक्षकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि गुरु महिमा की चर्चा आदिकाल से ही होता रहा है और आगे भी यथावत् होता रहेगा. गुरु समाज को शिक्षित कर देश के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं.ऐसे में परिषद के कार्यकर्ता कोशी कॉलेज के शिक्षक-शिक्षिकाओं के ऋणी है जिनके बताए मार्गों व आदर्शों पर चलकर परिषद के कार्यकर्ताओं उज्जलव भविष्य की ओर अग्रसर है.मौके पर विद्यार्थी परिषद के विभाग संयोजक पप्पू पांडे, नगर मंत्री कृष्णकांत पोद्दार,नदर सह मंत्री रविशंकर, एस एफ डी प्रमुख विश्वजीत कुमार, रोशन भानु, मृत्युंजय सहित दर्जनों कार्यकर्ता मौजूद थे.

Check Also

रेलवे ट्रैक पर मिला युवक का शव, हाथ-पैर था रस्सी से बंधा

रेलवे ट्रैक पर मिला युवक का शव, हाथ-पैर था रस्सी से बंधा

error: Content is protected !!