Breaking News
Oplus_0

अवर निरीक्षक चयन परीक्षा में भार्गवी व शबनम ने मारी बाजी

लाइव खगड़िया : जिले के गोगरी अनुमंडल के पसराहा थाना क्षेत्र के चकहर गांव के नरेश सिंह व स्व चांदनी देवी की पुत्री भार्गवी कुमारी और परबत्ता प्रखंड के डुमरिया बुजुर्ग के शाखा डाक पाल की पुत्री शबनम कुमारी ने बिहार अवर निरीक्षक चयन परीक्षा में बाजी मारी है और दोनों का अंतिम रूप से चयन हो गया है. भार्गवी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मिडिल स्कूल बाबू चकला से एवं माध्यमिक शिक्षा सुरेंद्र प्रसाद कन्या स्कूल महद्दीपुर से की है. जबकि उन्होंने उच्च माध्यमिक शिक्षा पी एम इंटर स्कूल शिरनियां से एवं स्नातक वी के एस वी आरा से की थी. भार्गवी के पापा किसी जमाने मे एल आई सी के सफलतम एजेंट हुआ करता थे. लेकिन वक्त के साथ नरेश सिंह की स्थिति खराब हो गई और बचपन में ही भार्गवी की मां का निधन हो गया था. ऐसे में माता-पिता के प्यार से मरहूम नानी के सानिध्य में रहकर इन्होंने सब इंस्पेक्टर की परीक्षा में बाजी मारी और परिवार, समाज, गांव और क्षेत्र का मान बढ़ाया.


उधर डुमरिया बुजुर्ग निवासी अनिल राय (शाखा डाक पाल) व अर्चना देवी की पुत्री शबनम कुमारी ने भी बिहार पुलिस में अपनी सेवा देते हुए अवर निरीक्षक परीक्षा में सफल रही है. अब तक शबनम भागलपुर जिले में जिला पुलिस बल के आपात कालीन सेवा 112 में कार्यरत हैं. 2018 में उनकी बिहार पुलिस के कांस्टेबल पद पर नियुक्ति हुई थी और वे अवर निरीक्षक पद के लिए तैयारी कर रही थीं. दूसरे प्रयास में उन्हें सफलता मिली है. उन्होंने सिपाही से दारोगा बनने तक के अपने सफर का श्रेय माता-पिता सहित परिवार को दिया है. शबनम कुमारी की प्रारंभिक शिक्षा गांव से ही हुई है. शिक्षाविद हीरालाल पंडित व डॉ प्रमोद कुमार राही बताते हैं कि मध्यम वर्गीय परिवार के बच्चों का महिला अवर निरीक्षक के 450 पद में अंतिम रुप से चयनित होना किसी बड़ी सफलता से कम नही है.

Check Also

आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों को पोषाहार की जगह मिल रहा बिस्किट व चॉकलेट !

आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों को पोषाहार की जगह मिल रहा बिस्किट व चॉकलेट !

error: Content is protected !!