Breaking News

इंतजार की इंतहा…17 सालों में परिणाम, रिटायर होने की उम्र में आया डिप्टी कलेक्टर का रिजल्ट

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : डिप्टी कलेक्टर के 50 पदों पर नियुक्ति के लिए 17 सालों से इंतजार का इंतहा चल रहा था और जब परीक्षा का अंतिम परिणाम आया तो कई परीक्षार्थी सेवानिवृत्ति की दहलीज पर पहुंच चुके हैं. ऐसे में कई चयनित अभ्यार्थियों की नियुक्ति एक-दो साल के लिए ही हो पाएगी. यह दिलचस्प मामला झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) का है.

आयोग ने विगत शनिवार को इस परीक्षा का अंतिम परिणाम जारी किया है और डिप्टी कलक्टर के निर्धारित 50 पदों पर नियुक्ति के लिए अनुशंसा राज्य सरकार से की गई है. इस परीक्षा में जिले के परबत्ता प्रखंड के सियादतपुर अगुआनी पंचायत के डुमरिया बुजुर्ग निवासी राज कुमार चौधरी ने भी बाजी मारी है. फिलहाल वे गया के मध्य विद्यालय शाहपुर बेलागंज में शिक्षक पद पर कार्यरत हैं.

1999 में बीपीएससी की परीक्षा पास कर राज कुमार चौधरी ने मध्य विद्यालय पतरातू लातेहार में शिक्षक पद पर योगदान दिया था और 20 साल तक झारखंड में सेवा देने के पश्चात 2020 में उन्होंने अपना स्थानांतरण गया करा लिए था. शिक्षक राज कुमार चौधरी दो सालों में शिक्षक पद से सेवानिवृत्त होंगे और इस बीच उनका चयन डिप्टी कलक्टर पद के लिए हो गया है.

उल्लेखनीय है झारखंड लोक सेवा आयोग ने वर्ष 2005 में ही डिप्टी कलेक्टर के 50 पदों पर नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी किया था और 23 अप्रैल 2006 को परीक्षा आयोजित की गई थी. लेकिन बाद में परीक्षा में गड़बड़ी को लेकर विवाद हुआ और मामला कोर्ट में चला गया. इस बीच तत्कालीन राज्यपाल सैय्यद सिब्ते रजी ने इस परीक्षा की निगरानी जांच का आदेश दे दिया.

निगरानी की जांच रिपोर्ट के आधार पर 12 जून 2013 को इस परीक्षा को रद्द कर दी गई. बाद में राज्य सरकार ने परीक्षा को नए सिरे से आयोजित करने का निर्णय लिया. जिसके आलोक में जेपीएससी ने 19 अक्टूबर 2015 को फिर से परीक्षा लेने की सूचना जारी की. जिसके बाद 3 जनवरी 2020 को पुनः परीक्षा आयोजित की गई. जिसमें लगभग चार हजार अभ्यार्थी शामिल हुए थे. हैरत की बात यह भी है कि पुनः परीक्षा आयोजित होने के बाद इसका परिणाम जारी करने में तीन साल लग गए. अब देखना दिलचस्प होगा कि चयनित अभ्यार्थियों कब तक अपना योगदान दे पाते हैं.

Check Also

अनोखी शादी : पति भी खुद, पत्नी भी खुद, खुद ही भरी मांग, अकेले लिए फेरे

अनोखी शादी : पति भी खुद, पत्नी भी खुद, खुद ही भरी मांग, अकेले लिए फेरे

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: