Breaking News

साख-जमा अनुपात बढ़ाएं एवं वार्षिक ऋण योजना कार्य में लाएं तेजी : डीएम

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : जिलास्तरीय परामर्शदात्री समिति सह जिला समन्वय समिति की समीक्षा बैठक मंगलवार को समाहरणालय के सभाकक्ष में आयोजित की गई. जिसकी अध्यक्षता जिलाधिकारी आलोग रंजन घोष ने किया. वहीं बताया गया कि जिले में बैंकों की कुल 117 शाखाएं है और इनके द्वारा 79 एटीएम का संचालन किया जाता है.

बैठक के दौरान अग्रणी जिला प्रबंधक सोनू कुमार ने खगड़िया जिले के वार्षिक ऋण योजना एवं साख जमा अनुपात के बारे में विस्तृत रूप से डीएम एवं सभी बैंकों को अवगत कराया. वहीं समीक्षा के क्रम में यह पाया गया कि खगड़िया जिले का साख-जमा अनुपात पिछले वर्ष मार्च क्लोजिंग में 59.60 प्रतिशत था. जो कि इस वर्ष यानी 2022-23 की प्रथम तिमाही जून में घटकर 57.16 प्रतिशत हो गया है. जबकि बिहार राज्य का शाख जमा अनुपात 49.58 प्रतिशत है. वित्तीय वर्ष 2021-22 के जून में वार्षिक ऋण योजना 21.62 प्रतिशत रहा था. जबकि इस वर्ष 2022-23 के प्रथम तिमाही में जिले की प्रगति 13.18 प्रतिशत रहा है. मौके पर जिला अधिकारी ने सभी बैंकों को निर्देशित किया कि 100 प्रतिशत एसीपी उपलब्धि नए एफवाई में होनी चाहिए. जबकि राज्य की औसत प्रगति प्रथम तिमाही में 25.74 प्रतिशत रहा है.

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने बैंकरों को साख-जमा अनुपात एव वार्षिक ऋण योजना की उपलब्धि पर नाराजगी व्यक्त करते हुए इसमें तेजी लाने का निर्देश दिया. साथ ही सभी बैंकों को वित्तीय वर्ष 2022-23 के वार्षिक ऋण योजना में लक्ष्य के अनुरुप प्रगति करने एवं ऋण जमा अनुपात को राष्ट्रीय स्तर पर 72 प्रतिशत तक लाने की कार्यनीति बनाने का निर्देश दिया. जिलाधिकारी ने आकांक्षी जिला खगड़िया में वित्तीय समावेशन हेतु प्रधानमंत्री जनधन योजना अंतर्गत चालू एवं बचत खाता खोलने पर बल दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री जीवन सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, अटल पेंशन योजना की भी समीक्षा की और पाया कि अटल पेंशन योजना में 102% से अधिक लक्ष्य प्राप्ति की जा चुकी है. वहीं शेष सामाजिक सुरक्षा स्कीम्स में 100% प्रतिशत उपलब्धि के लिए निर्देशित किया.

जिलाधिकारी ने सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं की प्रगति में बैंकों को सहयोग करने को कहा. उन्होंने मत्स्य, मुर्गी पालन एवं पशुपालन एवं गव्य/डेयरी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड कैंप लगाकर प्राथमिकता के आधार पर देने का निर्देश दिया. जिला मत्स्य कार्यालय, जिला गव्य विकास कार्यालय, सहकारी दुग्ध समिति एवं जिला पशुपालन कार्यालय द्वारा बैंकों को भेजे गये आवेदनों का भी तुरंत निष्पादन करने को लेकर निर्देशित किया. जिला अधिकारी ने एलडीएम और ज़िला पशुपालन अधिकारी को अस्वीकृत आवेदनों की जांच करने के साथ सभी बैंको के साथ मीटिंग बुलाने का निर्देश दिया.

बैठक में डीडीसी संतोष कुमार, एसडीसी बैंकिंग विजय कुमार, ज़िला विकास प्रबंधक नाबार्ड राखी कुमारी, भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतिनिधि चंद्रेश यादव, अग्रणी जिला प्रबंधक सोनू कुमार व सभी बैंकों के जिला समन्वयक सहित सभी संबंधित जिला स्तरीय पदाधिकारी यथा जिला पशुपालन पदाधिकारी, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला उद्यान पदाधिकारी, जिला मत्स्य पालन पदाधिकारी, जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक, माइक्रो फाइनेंस मैनेजर जीविका, सीएफएल, रसेठी के निदेशक बिपिन बिहारी, अमित कुमार, मुकेश, कृष्णा, पंकज, एलडीएम कार्यालय से अरुण कुमार आदि शामिल थे.

Check Also

संस्कृत के बिना संस्कृति को बचाना मुश्किल : शंकर शर्मा

संस्कृत के बिना संस्कृति को बचाना मुश्किल : शंकर शर्मा

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: