Breaking News

डॉ पटवर्द्धन झा का रहा बेहतर योगदान, सेवानिवृत्ति पर दी गई भावभीनी विदाई

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : 31 दिसंबर को जिले के परबत्ता सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के पूर्व प्रभारी डॉ पटवर्द्धन झा के सेवानिवृत्त होने के उपरांत शुक्रवार को अस्पताल परिसर में एक समारोह आयोजित कर उन्हें विदाई दी गई. विदाई समारोह में सिविल सर्जन डॉ अमरनाथ झा मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए. वहीं संबोधित करते हुए सिविल सर्जन ने कहा कि आज खुशी और गम का भावुक पल है. तमाम उतार चढ़ाव के बावजूद डॉ पटवर्धन झा ने स्वास्थ्य विभाग को 32 वर्षों तक अपनी सेवाएं दिया. उन्होंने अपनी सेवा काल में करीब 2 तिहाई से अधिक समय इसी जिले में गुजरा है. ऐसे में खासकर जिले के परबत्ता क्षेत्र के लोगों से इनसे जुड़ाव को कभी भूल नहीं पाएंगे और अस्पताल प्रभारी के साथ-साथ एक चिकित्सक के रूप में उनका कार्य हमेशा यहां के लोग याद रखेंगे.




वहीं डॉ पी झा ने अपने संबोधन में कहा कि योगदान के बाद तमाम तरह की चुनौतियां सामने आई. लेकिन सबके सहयोग एवं समर्थन से हर चुनौती का सामना करते हुए उन्होंने अपने दायित्व को निभाया. साथ ही उन्होंने कहा कि परबत्ता सहित खगड़िया की धरती को वे कभी भूल नही पायेंगे और जब कभी भी मेरी जरूरत होगी वे हाजिर रहेंगे.

उल्लेखनीय है कि डॉ पटवर्धन झा मूल रूप से दरभंगा जिले के लहटा ग्राम के रहने वाले हैं. सेवानिवृत्ति के पश्चात उन्होंने अपने जन्म स्थान पर रहकर लोगों की सेवा करने की इच्छा जाहिर की. गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग में सन 1990 में उनकी प्रथम पोस्टिंग चिकित्सक के रूप में प्रखंड के डुमरिया बुजुर्ग स्वर्गीय मोती हजारी दातव्य चिकित्सालय मे हुआ था. हालांकि बीच में कुछ समय के लिए उनकी पोस्टिंग बेगूसराय के मटिहानी प्रखंड में हुई थी. जिसके बाद वे पुनः खगड़िया में योगदान दिया. इस क्रम में वे चौथम, बेलदौर, गोगरी आदि जगहों पर सेवा देने के पश्चात पर परबत्ता के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में योगदान दिया और फिर यहां से ही सेवानिवृत्त हुए.

कार्यक्रम के दौरान वर्तमान अस्पताल प्रभारी सहित दर्जनों स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहे. विदाई समारोह में ग़ज़ल गायक प्रतीक ने अपनी प्रस्तुति पेश कर लोगों को कुछ देर लिए भावुक कर दिया.



Check Also

एक झपकी लगी और उजड़ गई दुनिया, किसी घर का बुझा चिराग तो किसी का उजड़ा सुहाग

एक झपकी लगी और उजड़ गई दुनिया, किसी घर का बुझा चिराग तो किसी का उजड़ा सुहाग

error: Content is protected !!