Breaking News

परबत्ता : नवोदित किसान संघ ने किया जमीन सर्वे का विरोध

लाइव खगडिया (मुकेश कुमार मिश्र) : जिले के परबत्ता प्रखंड अंतर्गत सियादतपुर अगुवानी पंचायत भवन में बुधवार को जमीन सर्वे प्रक्रिया के पहले चरण में ही पदाधिकारियों को किसानों के भारी आक्रोश का सामना करना पड़ा. मिली जानकारी के अनुसार जिला बंदोबस्त पदाधिकारी के नेतृत्व में एक दल ने जमीन सर्वे प्रक्रिया की शुरुआती जानकारियों के लिए आम सभा का आयोजन किया था. हालांकि जानकारी के अभाव में मात्र कुछ ही किसान बैठक के दौरान देखे गए. इस बीच नवोदित किसान संघ के सदस्य वहां पहुंचकर पदाधिकारियों के समक्ष अपना विरोध दर्ज कराया.

मौके पर संघ के अध्यक्ष रामानुज रमन ने बताया कि एक तरफ प्रखंड में बाढ़ की स्थिति से लोग परेशान है और वे अपने जान-माल को सुरक्षित करने में लगे हैं. दूसरी तरफ इस बीच गुपचुप तरीके से कुछ किसानों के बीच बैठक कर सर्वे प्रक्रिया का शुरुआत करना जायज नहीं है. 

बता दें कि नवोदित किसान संघ ने पूर्व मे ही जमीन सर्वे प्रक्रिया का विरोध करने का फैसला किया था. वहीं अध्यक्ष ने पूरे प्रखंड में जमीन से संबंधित सभी लंबित समस्याओं को हल करने की मांगों को रखा. मौके पर संघ के सचिव मदन मोहन सिंह ने कहा कि जब सरकार जमीन की खरीद-बिक्री सहित मालगुजारी जमा कराने पर प्रतिबंध लगा दिया है तो फिर सर्वे की बात करना उचित नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि सबसे पहले इन सभी मुद्दों का हल निकालना चाहिए और उसके बाद ही सर्वे पर विचार किया जाएगा.

मौके पर बंदोबस्त पदाधिकारी कपलेश्वर मंडल ने किसानों के सभी समस्याओं नोट करने के बाद उनके समाधान का भरोसा दिलाया. पदाधिकारी ने बताया कि पहले चरण में किसानों से प्रपत्र दो एवं 3(1) भरवा कर लिया जाएगा और उसके बाद अंचल एवं जिला भू अभिलेखागार से प्राप्त खतियान से मिलान कर अपडेशन किया जाएगा. यह सारी प्रक्रिया पारदर्शी तरीके से पूरी की जाएगी. साथ ही उन्होंने कहा कि जमीनी स्तर पर सर्वे का कार्य को पूरा करने के लिए हाईटेक डिजिटल मशीन का प्रयोग किया जाएगा. इसमें गलती की गुंजाइश न के बराबर रहती है. इसके अलावा ग्राम सभा की बैठक कर मौके पर ही अन्य समस्याओं का भी निराकरण किया जाएगा. पदाधिकारी के अनुसार सियादतपुर अगुवानी के अलावा कबेला एवं बैसा में आम सभा शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ.

Check Also

एक झपकी लगी और उजड़ गई दुनिया, किसी घर का बुझा चिराग तो किसी का उजड़ा सुहाग

एक झपकी लगी और उजड़ गई दुनिया, किसी घर का बुझा चिराग तो किसी का उजड़ा सुहाग

error: Content is protected !!