Breaking News

वट सावित्री पूजा : व्रतियों के बीच पौधा का वितरण,लिया गया वन संरक्षण का संकल्प




लाइव खगड़िया (मनीष कुमार) : वट सावित्री व्रत को लेकर गुरूवार को मंदिर में पूजा करने आई व्रतियों के बीच अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं के द्वारा वट के पौोधे का वितरण किया गया. साथ ही स्थानीय रजिस्ट्री ऑफिस के समक्ष स्थित शिवाजी पार्क में व्रतियों के साथ पौधा लगाकर वन संरक्षण का संकल्प लिया गया.

कार्यक्रम का नेतृत्व अभाविप की छात्रा प्रमुख सुषमा कुमारी ने किया. वहीं उन्होंने बताया कि धार्मिक मान्यता के अनुसार वट वृक्ष या बरगद के पेड़ के तने में भगवान विष्णु, जड़ में ब्रह्मा तथा शाखाओं में शिव का वास होता है. वट वृक्ष को त्रिमूर्ति का प्रतीक माना गया है. विशाल एवं दीर्घजीवी होने के कारण वट वृक्ष की पूजा लम्बी आयु की कामना के लिए की जाती है. वट वृक्ष ऑक्सीजन का बहुत बड़ा उत्पादक भी कहलाता है. ऐसे में कार्यकर्ताओं के द्वारा वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया गया है. 


मौके पर उपस्थित SFS के प्रांत संयोजक भरत सिंह जोशी ने कहा कि बरगद के वृक्ष का वैज्ञानिक और पौराणिक दोनों संदर्भ में अनोखा महत्व है. इसकी छाया सीधे मन पर असर डालती है और मन को शांत बनाये रखती है. अकाल में भी यह वृक्ष हरा भरा रहता है. ऐसे समय में पशुओं को इसके पत्ते और लोगों को इसके फल पर निर्वाह करना सरल होता है. इसकी डालियों और पत्तों से दूध निकलता है जिसका तांत्रिक प्रयोग होता है. इसकी छाल और पत्तों से औषधियां भी बनाई जाती हैं. यह वृक्ष आप-पास के परिवेश के प्रदूषण को भी कम करता है, जिससे वायु में ऑक्सीजन की उपस्थिति में बढोतरी होती है.

वही कार्यक्रम के संदर्भ में विस्तृत जानकारी देते हुए विद्यार्थी परिषद के विभाग संयोजक कुमार शानू ने कहा कि पर्यावरण संतुलन को बनाए रखने और वायु में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने अनूठी पहल की है. इस क्रम में कार्यकर्ताओं ने व्रतियों के साथ मिलकर शिवाजी पार्क में दस वट तथा पांच पीपल का पौधा लगाया है. साथ ही वृक्षों के संरक्षण के लिए सामूहिक रूप से संकल्प लिया गया है.

मौके पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राजू पासवान, नीतीश पासवान, जिला सोशल मीडिया प्रभारी अभिजीत कुमार, जिला कोषाध्यक्ष युवराज कुमार, नगर मंत्री सन्नी शर्मा, राजीव कुमार, राहुल रोशन आदि मौजूद थे.

Check Also

महाविद्यालयों से विद्यालयों में इंटर छात्रों के स्थानांतरण की कवायद पर आक्रोश

महाविद्यालयों से विद्यालयों में इंटर छात्रों के स्थानांतरण की कवायद पर आक्रोश

error: Content is protected !!