Breaking News

तेलिहार ‘राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार’ के लिए चयनित

लाइव खगड़िया : जिले के बेलदौर प्रखंड के तेलिहार पंचायत को भारत सरकार के पंचायती राज मंत्रालय ने राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार 2022 के लिए चयनित किया है. उल्लेखनीय है कि तेलिहार पंचायत के मुखिया अनिल सिंह हैं. बताया जाता हे कि दिनांक 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायत दिवस के अवसर पर पंचायती राज मंत्रालय द्वारा पीएफएमएस के माध्यम से प्रोत्साहन राशि का अंतरण संबंधित पंचायत के खाते में किया जाएगा.

मिली जानकारी के अनुसार तेलिहार पंचायत को सामान्य श्रेणी में यह पुरस्कार प्रदान किया जा रहा है. बिहार से कुल 12 प्रखंडों एवं ग्राम पंचायतों को इस पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है.

उल्लेखनीय है कि ग्रामीण भारत के परिवर्तन को लेकर फ्लैगशिप योजनाओं के प्रभावी और कुशल कार्यान्वयन में पंचायतों की महत्वपूर्ण भूमिका है. सम्पूर्ण देश में पंचायतों के बीच उत्कृष्ट प्रदर्शनकर्ताओं और ऐसी पंचायतों को पहचानने और प्रोत्साहित करने की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए पंचायती राज मंत्रालय ने वर्ष 2011-12 से राज्य सरकारों / केन्द्र शासित प्रदेशों द्वारा अनुशंसित सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली पंचायतों को प्रोत्साहित कर रहा है. यह पुरस्कार प्रति वर्ष 24 अप्रैल को मनाए जाने वाले राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर दिया जाता है. राष्ट्रीय पंचायती पुरस्कार 2022 के लिए मूल्यांकन वर्ष 2020-21 के प्रदर्शन के आधार पर किया गया है.

उधर तेलिहार पंचायत के मुखिया अनिल सिंह ने बताया है कि बिहार सरकार के सात निश्चय योजना, आवास योजना एवं मनरेगा के तहत पंचायत ने बेहतर कार्य किया है. जबकि सात निश्चय योजना अंतर्गत गली-नली योजनाओं को पेवर ब्लॉक द्वारा निर्मित किया गया है. सभी योजनाओं को सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुरूप क्रियान्वित किया गया है. इस क्रम में मनरेगा से पशु शेड, बकरी शेड के साथ पोखरों का भी पुनर्निर्माण किया गया है. साथ ही पंचायत में विद्यालयों के सौंदर्यीकरण के साथ आंगनवाड़ी केंद्र एवं पार्क का भी निर्माण किया गया है. पंचायत में शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए विद्यालय प्रबंध समिति के साथ लगातार बैठक किया जाता रहा है और इसके लिए वे सक्रिय रूप से कार्य करते रहे हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि पंचायत में किशोरी क्लब की स्थापना की गई है. जिसके अंतर्गत 12 से 14 वर्ष के बीच के किशोरियों के बीच बाल विवाह को रोकने के लिए सामाजिक कार्य किया जाता है और उन्हें पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है.

इधर जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने तेलिहार के मुखिया अनिल सिंह को इस उपलब्धि पर बधाई देते हुए उम्मीद जाहिर किया है कि जिले के अन्य मुखिया भी भविष्य में बेहतर काम करके इस पुरस्कार को प्राप्त करने में सफल होंगे.

Check Also

वायु सेना के जवान का शव गांव पहुंचते ही परिजनों में मचा कोहराम

वायु सेना के जवान का शव गांव पहुंचते ही परिजनों में मचा कोहराम

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: