Breaking News

बागडोगरा हवाई अड्डे पर शहीद जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

लाइव खगड़िया : सिक्किम के जेमा में शुक्रवार को हुई सड़क दुर्घटना में शहीद 16 सैनिकों को शनिवार को बागडोगरा हवाई अड्डे पर आयोजित समारोह में पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई. बागडोगरा हवाई अड्डे पर शहीद जवानों को श्रद्धाजलि देने वालों में सिक्किम के मुख्यमंत्री पीएस तमांग और लेफ्टिनेंट जनरल वीपीएस कौशिक भी शामिल थे. इसके पूर्व शहीद जवानों के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए गंगटोक के एसटीएनएम अस्पताल लाया गया. जहां पोस्टमॉर्टम की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद भारतीय वायु सेना के तीन हेलीकॉप्टरों के द्वारा गंगटोक से बागडोगरा हवाई अड्डे तक जवान के पार्थिव शरीरों को लाया गया.

मिली जानकारी के अनुसार श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद 15 शहीद जवान के पार्थिव शरीरों को वायु सेना के विशेष विमानों से देश के विभिन्न हवाई अड्डों पर भेजा गया. जबकि खगड़िया के रहने वाले नायब सूबेदार चंदन कुमार मिश्रा के पार्थिव शरीर को सड़क मार्ग से पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव लाया जा रहा है.

उल्लेखनीय है कि सिक्किम के जेमा के समीप शुक्रवार को हुए  दर्दनाक सड़क हादसे में सेना के 16 जवान शहीद हो गए थे. शहीदों में खगड़िया जिले के परबत्ता प्रखंड के नयागांव निवासी नायब सूबेदार चंदन कुमार मिश्रा भी शामिल थे. इधर घटना की खबर से शहीद के वृद्ध माता-पिता बेसुध हैं और गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है. लेकिन अपने वीर सपूत की शहादत पर हर किसी को फक्र भी है.

2001 में भारतीय सेना से जुड़़े थे चंदन

शहीद नायब सूबेदार चंदन कुमार मिश्र 2001 में नासिक आर्मी भर्ती सेंटर से कड़ी मेहनत के बाद सेना में अपना योगदान दिया था. उनकी प्रारंभिक शिक्षा पैतृक गांव के श्री कृष्ण उच्च विद्यालय नयागांव से हुई थी. मैट्रिक पास करने के साथ वे सेना में भर्ती होने की तैयारियों में जुट गए थे. 2006 में नवगछिया अनुमंडल के रतनपुरा गांव की डोली कुमारी के साथ उनकी शादी हुई थी. जिनसे उन्हें एक पुत्र मयंक एवं एक पुत्री आराध्या की प्राप्ति हुई. मिलनसार स्वभाव के नायब सूबेदार चंदन कुमार मिश्र के शहीद होने की खबर से इलाके में शोक की लहर है. उनके पिता ग्रामीण चिकित्सक हैं. जबकि छोटा भाई गांव में ही शिक्षण कार्य से जुड़े हैं.

इस वर्ष जुलाई में नयागांव के लाल कैप्टन आनंद भी शहीद हुए थे. उनकी शहादत का घाव अभी भरा भी नहीं था कि उसी गांव के एक और वीर सपूत जेसीओ चंदन कुमार मिश्र की शहादत की खबर आ गई. सूचना मिलते ही आसपास के लोग शहीद के घर पहुंच उनके माता एवं पिता को सांत्वना दे रहे हैं. इस क्रम में शहीद कैप्टन आनंद के माता पिता भी शहीद नायब सूबेदार चंदन कुमार के घर पहुंचे.

माता-पिता को नहीं दी जा रही थी बेटे की शहादत की सूचना

बुजुर्ग माता पिता को बेटे की शहीद होने की सूचना नहीं दिया जा रहा था. सभी को अंदेशा सता रहा था कि खबर से माता- पिता गहरे सदमे में न चलें जाएं. बताया जाता है कि शुक्रवार दोपहर से ही हर कोई उनके माता-पिता को यही सांत्वना दे रहे थे कि हादसे में चंदन घायल है और अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. लेकिन घर पर जैसे-जैसे लोगों की भीड़ बढ़ती गई वैसे-वैसे चंदन के माता-पिता की किसी अंदेशे से घबराहट भी गई. जिसके बाद जब प्रशासन के लोगों का उनके घर पर पहुंचना शुरू किया तो मां-पिता को समझते देर नहीं लगी कि उनका बेटा शहीद हो चुका है. हलांकि इस दौरान उपस्थित लोग उनकी ढांढस बंधाते रहे.

इधर गोगरी अनुमंडल पदाधिकारी अमन कुमार सुमन, डीएसपी मनोज कुमार, प्रखंड विकास पदाधिकारी अखिलेश कुमार, परबत्ता के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र पाल भी शहीद नायब सूबेदार चंदन कुमार मिश्रा के घर पर पहुंचे तथा विधि व्यवस्था की तैयारी में जुट गए. ताकि शहीद जवान का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव पहुंचते ही लोग उनका अंतिम दर्शन कर सकें. मिली जानकारी के अनुसार प्रशासनिक पदाधिकारी ने शहीद के अंतिम संस्कार को लेकर अगुआनी गंगा घाट का भी जायजा लिया.

सिलीगुड़ी से मो. याहिया व खगड़िया से मुकेश कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

Check Also

भगवान श्री राम सम्पूर्ण वसुंधरा के राजा थे : स्वामी आगमानंद जी महाराज

भगवान श्री राम सम्पूर्ण वसुंधरा के राजा थे : स्वामी आगमानंद जी महाराज

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: