Breaking News

नगर निकाय चुनाव : थमा चुनाव प्रचार का शोर, शांतिपूर्ण मतदान को लेकर प्रशासन ने कसी कमर

लाइव खगड़िया : नगर निकाय आम निर्वाचन के प्रथम चरण में प्रतिनियुक्त जोनल, सेक्टर पदाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों के साथ शुक्रवार को जिलाधिकारी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी आलोक रंजन घोष एवं पुलिस अधीक्षक अमितेश कुमार ने समाहरणालय के सभा कक्ष में संयुक्त ब्रीफिंग की. वहीं नगर परिषद खगड़िया व गोगरी जमालपुर एवं नगर पंचायत परबत्ता में 18 दिसंबर को होने वाले मतदान के शांतिपूर्ण संचालन हेतु प्रतिनियुक्त जोनल पदाधिकारियों, सेक्टर पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया. साथ ही सेक्टर मजिस्ट्रेट से संबंधित कार्यों व दायित्वों के निर्वहन के संबंध में जानकारी के साथ ईवीएम मशीन के संचालन का प्रशिक्षण भी मास्टर ट्रेनरों द्वारा दिया गया.

इस अवसर पर जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने मतदान की तिथि को सेक्टर पदाधिकारियों की भूमिका सुस्पष्ट करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिया. जिलाधिकारी ने सभी सेक्टर पदाधिकारियों से नगर निकाय निर्वाचन में उनके द्वारा निभाए जाने वाले कर्तव्यों के संबंध में भी जानकारी ली तथा स्वच्छ, निष्पक्ष एवं पारदर्शी तरीके से निर्वाचन संपन्न कराने का निर्देश दिया. उन्होंने निर्वाचन से संबंधित प्रतिवेदन ससमय कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराने का निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी छोटी से भी छोटी सूचना का संज्ञान लेते हुए वरीय पदाधिकारी एवं कंट्रोल रूम को अवगत करायें.

मौके पर सेक्टर पदाधिकारियों को अपने सेक्टर में स्थित मतदान केंद्रो का निरीक्षण कर वहां उपलब्ध आवश्यक न्यूनतम सुविधाओं के संबंध में (यथा विद्युत संबद्धता की स्थिति, कमरों की संख्या, फर्नीचर की स्थिति, संपर्क मार्ग की स्थिति, शौचालय एवं पेयजल की स्थिति आदि) स्थलीय जांच करते हुए आवश्यक सुविधाओं को उपलब्ध कराने के लिए पहल करने का निर्देश दिया गया. वहीं बताया गया कि ठंड के मौसम को देखते हुए एवं सूर्यास्त जल्दी होने की वजह से शाम 5:00 बजे तक अंधेरा हो जाता है. ऐसे में सभी मतदान केंद्रों पर रोशनी की स्थिति के संबंध में भी पर्याप्त व्यवस्था के संबंध में आश्वस्त होने का निर्देश दिया गया. जिलाधिकारी ने सेक्टर पदाधिकारियों को निर्देशित किया कि अपने मतदान केंद्रों पर सभी व्यवस्थाएं मतदान तिथि से पूर्व सुनिश्चित कराने के लिए कार्य करें और मतदान तिथि के दिन सुबह 5:00 बजे से ही अपने सेक्टर में स्थित मतदान केंद्रों पर पहुंच जाएं.

जिलाधिकारी ने मतदान केंद्रों के भ्रमण के दौरान विजिट सीट पर हस्ताक्षर करने और वयोवृद्ध मतदाताओं और छोटे बच्चों के साथ मतदान हेतु आई महिला मतदाताओं को पहले मतदान कराने की बातें कही. साथ ही उन्होंने कहा कि सेक्टर पदाधिकारियों को स्मारित कराया कि ईवीएम बदलने की संभावना न्यूनतम रखने के लिए क्विक रिस्पांस टीम का सहयोग लिया जाए. मतदान प्रारंभ होने के बाद ईयू/बीयू बदले जाने पर दोनों ईयू/बीयू बाजार समिति स्थित वज्रगृह में जमा कराए जाएंगे.

जिलाधिकारी ने कहा कि सभी मतदान केंद्रों पर मॉक पोल ससमय संपन्न कराना है और ईवीएम खराब होने की स्थिति में मास्टर ट्रेनर द्वारा ठीक ना होने की स्थिति में ही इसे बदला जाएगा. साथ ही उन्होंने अपराह्न 3:00 बजे के बाद विशेष रूप से अलर्ट रहने की बातें कहते हुए बताया कि नगर निकाय चुनाव में मतदान प्रतिशत अधिक रहने की संभावना है. अतः निर्धारित समय के बाद भी मतदान जारी रह सकता है. शाम 5:00 बजे पंक्तिबद्ध मतदाताओं को वोटर स्लिप वितरित कर देना है और शाम 5:00 बजे तक जो भी मतदाता पंक्ति में लगे हैं उन सभी मतदाताओं को मतदान कराना है. हर 3 वार्ड पर एक ईवीएम कलस्टर सेंटर बनाया गया है. जिससे किसी भी मतदान केंद्र पर ईवीएम में खराबी आने पर बदलने के लिए तत्काल ईवीएम को पहुंचाया जा सकता है. रिजर्व ईवीएम की पहचान सुनिश्चित करने के लिए उस पर अलग रंग का स्टीकर लगाया गया है.

मौके पर जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि वोटर स्लिप के साथ मतदाताओं के पास कोई अन्य पहचान पत्र भी होना चाहिए. अगर मतदाता के पास वोटर स्लिप नहीं है तो भी उसे मतदान करने से नहीं रोका जाएगा. मतदाताओं की पहचान के लिए सभी मतदान केंद्रों पर फेस रिकॉग्निशन सिस्टम रहेगा. मेडिकल क्विक रिस्पांस टीम भी प्रत्येक नगरी क्षेत्र में प्रयुक्त की जा रही है. इसके अलावा पुलिस क्विक रिस्पांस टीम भी लगाई जा रही है, जो मोटरसाइकिल से भ्रमण करते हुए संपूर्ण इलाके पर नजर बनाए रखेगी. नगरीय क्षेत्र में कहीं से भी गड़बड़ी की सूचना पर अल्प समय में वरीय पदाधिकारी पहुंच सकते हैं. उन्होंने सेक्टर पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी पीठासीन पदाधिकारी मॉक पोल के समय सुनिश्चित हो कि ईवीएम उसी वार्ड से संबंधित है और इस संबंध में निर्वाचन अभिकर्ताओं से भी आश्वस्त हो लेना है. प्रत्येक वार्ड में प्रत्याशियों के लिए सिंबल एक ही तरह के हो सकते हैं. अतः इस पर ध्यान देना है कि एक वार्ड में दूसरे वार्ड का ईवीएम चूकवश ना पहुंच गया हो.

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने भी निर्देश दिया कि मतदान के दिन किसी भी शिकायत पर तुरंत प्रतिक्रिया देनी है. जिससे मतदाताओं और प्रत्याशियों का तंत्र पर भरोसा बना रहता है. उन्होंने मतदान के दिन सूचनाओं का सतत एवं अबाधित आदान- प्रदान के लिए वायरलेस सेट को ऑन रखने का निर्देश देते हुए कहा कि सेक्टर में स्थित मतदान केंद्रों का सतत भ्रमण करते रहना है और पुलिस पदाधिकारी या अन्य पदाधिकारियों को किसी भी प्रत्याशी या व्यक्ति से खाने पीने की कोई वस्तु नहीं लेना है. उन्होंने सभी सेक्टर पदाधिकारियों को सजग और सचेत रहने का भी निर्देश देते हुए कहा कि मतदान उपरांत सभी पीसीसीपी पार्टी और पोलिंग पार्टी के सेक्टर से ईवीएम कलेक्शन सेंटर को प्रस्थान कर जाने पर ही वे सेक्टर को छोड़ेंगे और अपनी अभिरक्षा में बाजार समिति में पोल्ड ईवीएम को पहुंचायेंगे.

ब्रीफिंग के अवसर पर अपर समाहर्ता मोहम्मद राशिद आलम, पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय रंजीत सिंह, पुलिस उपाधीक्षक खगड़िया सुमित कुमार, जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी रोशन अली सहित सभी जोनल पदाधिकारी, सेक्टर पदाधिकारी एवं संबंधित पुलिस पदाधिकारी उपस्थित थे.

Check Also

केएमडी कॉलेज के नवनिर्मित मुख्य द्वार का कुलपति ने किया उद्घाटन

केएमडी कॉलेज के नवनिर्मित मुख्य द्वार का कुलपति ने किया उद्घाटन

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: