Breaking News

खगड़िया के लाल ने किया था यूपी के इनामी खूंखार अपराधी का सफाया

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : जिले के कम लोगों को ही शायद जानकारी होगी कि यहां के मिट्टी के लाल पड़ोस के राज्य उत्तर प्रदेश के महानगर में प्रशासनिक क्षेत्र में अपना जलवा बिखेर रहे हैं और शायद कुछ ही लोगों को पता होगा कि यहां के एक बहु की हंटर यूपी में अपराधियों के सिर चढकर बोल रहा है.मुख्य

दरअसल जिले के परबत्ता प्रखंड के कुल्हड़िया निवासी स्वर्गीय महेश्वर तिवारी के आईपीएस पुत्र संजीव सुमन एवं उनकी आईपीएस पुत्रवधु पूजा यूपी के दो अलग-अलग जिलों में वहां की जनता के मन में पुलिस-प्रशासन के प्रति विश्वास जगाकर अपराधियों के हौसले पस्त कर फरकिया के जांबाजी का सुगंध बिखेर रहे हैं.

बहरहाल उत्तर प्रदेश कैडर के 2014 बैच के आईपीएस अधिकारी संजीव सुमन सिटी एसपी के रूप में औद्योगिक महानगरी कानपुर में पदस्थापित है.माना जा रहा कि है उनके कार्यकाल के दौरान उनके सख्त रूख से कानपुर बेस्ट में अपराध की घटनाओं में काफी गिरावट आई हैं और साथ ही महिलाओं की सुरक्षा के प्रति भी विशेष चौकसी बरती जा रही है.वहीं उनकी ‘सुप्रभात पुलिस’ मुहिम भी काफी सुर्खियों में रहा है.

दरअसल औद्योगिक महानगरी में विगत के अपराधिक घटनाओं का अवलोकन करने के दौरान उन्होंने पाया था कि पुलिस की रात्रि गश्ती व दिन की शिफ्ट की शुरूआत के बीच सुरक्षात्मक लिहाज से खाली पड़े सुबह के कुछ घंटों के बीच अपराधी अपने नापाक मंसूबे में कामयाब हो जा रहे हैं.जिसपर लगाम लगाने के लिए उन्होंने ‘सुप्रभात पुलिस’ की मुहिम चलाई.जिसमें सुबह-सबेरे से ही सादी वर्दी में पुलिस साइकिल-मोटरसाइकिल व अन्य वाहनों से कानपुर की सड़कों पर गश्ती करने लगे.इस दौरान पुलिस के द्वारा संदिग्धों को हिरासत में लिया जाता रहा.इस क्रम में कई अपराधी अपराधिक घटना को अंजाम देने के पूर्व ही पुलिस की गिरफ्त में चले आये.साथ ही सुप्रभात पुलिस की मुहिम ने स्कूली बच्चे व महिलाओं के लिए अतिरिक्त सुरक्षा कवच साबित हो रहा है.

इसके पूर्व आईपीएस संजीव सुमन बुलंदशहर में ट्रेनिंग के उपरांत आजमगढ एवं बाघपत में एएसपी का कार्यभार संभाला और कार्यकाल के प्रारंभिक दिनों में ही कई अहम उपलब्धियां अपने नाम कर गये.जिसमें बाघपत में दो बदमाशों को इनकाउंटर में मार गिराना, 8 इनामी अपराधियों की गिरफ्तारी सहित पश्चिम यूपी में आतंक का प्रयाय बन चुके 1 लाख इनामी वाला अजीत हप्पू को राजस्थान से एक लंबी मुठभेड़ के बाद गिरफ्तारी काफी सुर्खियों में रही थी.उल्लेखनीय है कि अजीत हप्पू पर 8 मर्डर और 30 गंभीर क्राइम के मामले पश्चिम यूपी में दर्ज था.जिसे खगड़िया के लाल ने खुद की जान जोखिम में डालकर सलाखों के पीछे पहुंचा दिया.इस बड़ी उपलब्धि पर वे DG Commendation Disc अवार्ड के लिए भी नॉमिनेट किये गये.साथ ही उन्हें इसी अवार्ड के लिए कानपुर ओला कैब रोबड़ी कांड में मिली बड़ी सफलता के लिए दोबारा भी नॉमिनेशन मिला.

आईपीएस संजीव सुमन ने अपनी 12वीं तक की शिक्षा बोकारो के संत जेवियर स्कूल से पूरी की थी.जबकि आईआईटी रूड़की से उन्होंने कम्प्यूटर साइंस में बी.टेक की डिग्री हासिल किया था.इसके उपरांत वे बेंगलूरू में एक अमेरिकन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी से जॉब शुरू किया.लेकिन उनकी चाहत और उनकी मंजिले कुछ और ही थी और महज 18 माह में उन्होंने नौकरी छोड़कर आईपीएस की तैयारी में जुट गये.वर्ष 2014 में उत्तर प्रदेश कैडर में मिली सफलता ने उनके सपने को एक नई उड़ान दे दी.क्रिकेट,लॉन टेनिस व फुटबॉल के खेल में काफी रूचि रखने वाले आईपीएस संजीव सुमन का सामाजिक कार्यों से भी गहरा लगाव रहा है.पुलिस की नौकरी को समाज सेवा मानने वाले आईपीएस संजीव सुमन स्कूल पहुंच वहां के बच्चे को भी प्रेरित करते रहे हैं.साथ ही वृक्षारोपण व स्वच्छता अभियान में उनकी टीम लगी रहती है.जिले के लाल आईपीएस संजीव सुमन की शादी राजस्थान कैडर के 2014 बैच की आईपीएस अधिकारी पूजा से वर्ष 2017 में हुई थी.

आईपीएस पूजा बहरहाल उत्तर प्रदेश में ही फतेहपुर एसपी की कमान संभाल रखी हैं.वो मूल रूप से हरियाणा की रहने वाली हैं.जिन्हें राजनीति शास्त्र से एमए करने के उपरांत राजस्थान कैडर से आईपीएस में सफलता मिली और संजीव सुमन से शादी के उपरांत वो भी यूपी पुलिस को अपनी सेवाएं दे रही हैं.

इसी वर्ष 29 अप्रैल से फतेहपुर एसपी की कमान संभालने वाली आईपीएस अधिकारी पूजा अपने कार्यकाल के दौरान कई अहम उपलब्धियां अर्जित करने में सफल रही है.बहरहाल यह युगल जोड़ी यूपी पुलिस प्रशासन की उपलब्धियों में नित्य नया अध्याय जोड़ते हुए जिलेवासियों को भी गौरवान्वित कर रही है.

यह भी पढेंछोटा बाबू के विरूद्व शिकायत सुनकर SP खुद पहुंच गईं थाने और फिर

Check Also

41वें स्थापना दिवस पर जश्न में डूबा खगड़िया

41वें स्थापना दिवस पर जश्न में डूबा खगड़िया

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: