Breaking News

कैप्टन आनंद को अंतिम विदाई देने उमड़ा जनसैलाब, सड़क से लेकर छतों तक खड़े रहे लोग

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : जम्मू कश्मीर में ग्रेनेड विस्फोट में शहीद हुए कैप्टन आनंद का पार्थिव शरीर बुधवार की सुबह खगड़िया जिला की सीमा में प्रवेश करते ही बिहार सरकार के पंचायत राज मंत्री सम्राट चौधरी, जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष, पुलिस अधीक्षक अमितेश कुमार, भाजपा नेता संजय खंडेलिया व बाबू लाल शौर्य, युवा शक्ति के नागेन्द्र सिंह त्यागी आदि ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दिया. जैसे-जैसे काफिला आगे बढ़ता गया वैसे-वैसे लोगों की भीड़ जिले के लाल का अंतिम दर्शन के लिए सड़कों पर उमड़ पड़ी. तिरंगे में लिपटा शहीद का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव शिरोमणि टोला नयागांव पहुंचते ही ‘आनंद अमर रहे’, ‘भारत माता की जय’ जैसे नारे से इलाका गूंज उठा. वहीं कैप्टन आनंद को श्रद्धांजलि देने के लिए हजारों की संख्या में लोग जुट गए. अंतिम विदाई की बेला में हर किसी की आंखें नम थी. लेकिन हर को जिले के जाबांज लाल के शहादत पर गर्व भी था. वहीं शहीद के पिता मधुकर राज उर्फ राम बिलांत सनगही व माता ममता देवी अपने बेटे के पार्थिव शरीर से लिपट कर रोते रहे.

शहीद कैप्टन आनंद को शिरोमणि टोला नयागांव में स्थानीय विधायक डॉ संजीव कुमार, जिला परिषद अध्यक्ष कृष्ण कुमारी यादव, जदयू के जिलाध्यक्ष बबलू कुमार मंडल, पूर्व जिला परिषद सदस्य शैलेंद्र कुमार सिंह, बहिष्कृत हितकारी संगठन के संस्थापक संजीव डोम, जदयू नेता अंगद कुशवाहा, जदयू के जिला उपाध्यक्ष पंकज पटेल, जिला महासचिव आचार्य राकेश पासवान शास्त्री, युवा जदयू के जिला अध्यक्ष नीतीश सिंह पटेल, मनीष कुमार सिंह, श्रीकांत कुशवाहा, विनय सिंह रोशन, ऋषि सिंह पटेल आदि ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दिया.

शहीद कैप्टन आनंद का अंतिम संस्कार राजकीय एवं सैन्य सम्मान के साथ अगुआनी गंगा घाट पर किया गया. वहीं शहीद कैप्टन को थल सेना के राजपूताना राइफल्स रेजिमेंट के कर्नल संतोष कुमार सिंह के नेतृत्व में सेना के जवानों एवं खगड़िया के मेजर इंस्पेक्टर शरद कुमार के नेतृत्व बिहार पुलिस बल के जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया. कैप्टन आनंद को उनके छोटे भाई प्रीतम कुमार ने मुखाग्नि दिया और कैप्टन आनंद का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया. अगुआनी गंगा घाट पर शहीद कैप्टन आनंद के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार से पहले तिरंगा झंडा शहीद के पिता को सेना के अधिकारी ने सौंपा और पिता अपनी आंखों की आंसू को रोक नहीं पाएं.

मौके पर बिहार सरकार के पंचायत राज मंत्री सम्राट चौधरी, स्थानीय विधायक डॉ संजीव कुमार, विधान पार्षद देवेशचंद्र ठाकुर, डीएम डॉ आलोक रंजन घोष, एसपी अमितेश कुमार, डीडीसी संतोष कुमार, एसडीओ अमन कुमार सुमन, गोगरी डीएसपी मनोज कुमार, बीडीओ अखिलेश कुमार, सीओ अंशु प्रसून, भाजपा नेता रामानुजन प्रसाद रमण, बाबूलाल शौर्य सहित हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहे.

इसके पूर्व शहीद कैप्टन आनंद का पार्थिव शरीर मड़ैया पहुंचते ही बाइक सवार दर्जनों युवा अपने-अपने हाथों में तिरंगा लेकर काफिला में शामिल हो गये. इस दौरान ‘कैप्टन आनंद अमर रहे’ की आवाज गूंजता रहा. शहीद कैप्टन आनंद की अंतिम यात्रा के दौरान सड़क के दोनों तरफ झुंड में खड़े लोग शहीद की एक झलक पाने को आतुर दिखे. कई जगहों पर लोगों ने फूलों की बारिश की. साथ ही क्षेत्र केसरिया रंग से पटा था और कई जगहों पर तोरणद्वार बनाया गया था. जहां लोग तिरंगा लेकर शहीद के सम्मान में खड़े थे. शहीद कैप्टन आनंद के पार्थिव शरीर को परबत्ता विधायक, डीएम, एसपी आदि ने भी कंधा दिया.

शहीद कैप्टन आनंद की पार्थिव शरीर महेशखूंट -अगुआनी पथ से गुजरने के दौरान स्कूली छात्र-छात्रा ने हाथों में तिरंगा लहराते हुए उन्हें सलामी दी. इस दौरान उत्क्रमित माध्यमिक मकतब इस्लामपुर मड़ैया, मध्य विद्यालय नयागांव सहित अन्य विद्यालयों के बच्चों ने भी शहीद कैप्टन आनंद को श्रद्धांजलि दिया. मोजाहिदपुर राम जानकी ठाकुरबाड़ी के पास राधा रानी सेवा ट्रस्ट के द्वार तोरणद्वार बनाया गया था. वहीं पुष्प वर्षा व इत्र फव्वारा किया गया. मौके पर अमित कुमार, कृष्णकांत झा, गोबिंद सिंह, गुंजन कुमार,प्रिंस कुमार, सचिन कुमार, हिमांशु कुमार आदि उपस्थित थे.

इधर शहीद के अंतिम यात्रा में लोगों की भीड़ को देखते हुए विधि व्यवस्था को लेकर चप्पे-चप्पे पर पुलिस के अधिकारी के साथ पुलिस बल तैनात थे. डीएसपी मनोज कुमार, परबत्ता थाना अध्यक्ष धर्मेंद्र पाल, मड़ैया थाना अध्यक्ष विजय सहनी सहित अन्य थाना के थानाध्यक्ष एवं बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद थे.

Check Also

हादसों के नाम रहा सोमवार, अलग-अलग घटनाओं में आधा दर्जन की मौत

हादसों के नाम रहा सोमवार, अलग-अलग घटनाओं में आधा दर्जन की मौत

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: