Breaking News

मां कात्यायनी मंदिर के दानपेटी की राशि बगैर अनुमति व्यय करने पर जांच का निर्देश

लाइव खगड़िया : मां कात्यायनी मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों की बैठक शनिवार को जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष एवं पुलिस अधीक्षक अमितेश कुमार की संयुक्त अध्यक्षता में आयोजित की गई. मौके पर मंदिर के चढ़ावे की राशि को बैंक में जमा करने, सीसीटीवी कैमरा दुरुस्त कराने, हाई मास्ट लाइट लगवाने व प्रशासनिक भवन बनाने आदि के संबंध में चर्चा की गई और वहीं आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया.

बैठक में नवरात्र के दौरान दान पेटी के चढ़ावे की राशि को बिना अनुमति व्यय करने के मामले की भी समीक्षा की गई एवं आवश्यक निर्देश दिया गया. वहीं बताया गया कि कात्यायनी मंदिर के दान पेटी को जबरन खुलवाने एवं चढ़ावे की राशि का अपव्यय का आरोप प्रबंधन समिति के पूर्व कोषाध्यक्ष एवं सदस्यों के द्वारा लगाया गया है. मामले को लेकर चौथम के अंचलाधिकारी ने भी बताया कि उन्हें इस संबंध में सूचित नहीं किया गया था एवं गलत तरीके से राशि की निकासी की गई है. इस संबंध में प्रबंधन समिति के सदस्यों ने बताया कि चढ़ावे की राशि का व्यय आवश्यक कार्यों पर किया गया है और इसका विवरण अभिश्रव सहित उपलब्ध है. लेकिन जिलाधिकारी ने व्यय को ज्यादा मानते हुए सदर अनुमंडल पदाधिकारी को जांच कर प्रतिवेदन सौंपने का निर्देश दिया. साथ ही जिलाधिकारी ने चौथम के राजस्व अधिकारी को दान पेटी खोलने के समय उपस्थित रहने एवं पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी कराने का निर्देश दिया. बताया जाता है कि बैरागन के दिनों सोमवार व शुक्रवार को दान पेटी को खोला जाता है. वहीं दान पेटी की राशि को बैंक खाते में जमा कराने का निर्देश दिया गया.

इस अवसर पर मंदिर परिसर में सांसद निधि से हाई मास्ट लाइट लगाने एवं विधान पार्षद के मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना निधि से प्रशासनिक भवन बनाने के प्रस्ताव पर भी चर्चा हुई. वहीं जिलाधिकारी ने मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे को ठीक कराने एवं पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम लगाने का निर्देश दिया. मौके पर सदर अनुमंडल पदाधिकारी अमित अनुराग, चौथम के अंचलाधिकारी भारत भूषण, राजस्व अधिकारी प्रज्ञा नयनम सहित मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्य उपस्थित थे.

Check Also

अगलगी में फटा गैस सिलेंडर, पांच घायल व चार घर भी जलकर राख

अगलगी में फटा गैस सिलेंडर, पांच घायल व चार घर भी जलकर राख

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: