Breaking News

गजाधर सलारपुरिया के 20वीं पुण्यतिथि पर गरीबों के बीच खाद्य सामग्री वितरित

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : जिले के परबत्ता प्रखंड के लगार पंचायत अंतर्गत बिशौनी गांव में रविवार को स्व.गजाधर सलारपुरिया की 20वीं पुण्य स्मृति के अवसर पर उनकी पत्नी शारदा देवी सलारपुरिया के वित्तीय सहायता से कौशल कुमार मिश्र उर्फ पप्पु मिश्र के द्वारा लगभग 350 गरीब व दिव्यांगजनों के बीच खाद्य सामग्री का वितरण किया गया. इस क्रम में चावल, दाल, नमक और आलू का पैकेट सहित जितिया व्रत करने वाली महिलाओं के बीच साड़ी का वितरित किया गया.

बताया जाता है कि आयोजन को लेकर उदयपुर, बिशौनी, सलारपुर, खजरैठा, परबत्ता, खनुआ राका के अति निर्धन परिवारों का चयन किया गया था. मौके पर धीरेन्द्र मिश्र उर्फ महंत जी, अभय कांत मिश्र, मनोज कुमार मिश्र, पंकज झा, सुमन पाठक आदि मौजूद थे. गौरतलब है कि ऐसा आयोजन हर वर्ष लगभग विगत दो दशकों से किया जा रहा है.

सलारपुरिया ग्रुप के संस्थापक गजाधर जी सलारपुरिया का जन्म जिले के सलारपुर गांव के एक सम्पन्न किसान एवं व्यवसायी परिवार में हुआ था. चार्टर्ड एकाउन्टेन्ट की पढाई के बाद उन्होंने सलारपुरिया जाजोदिया एण्ड कंपनी नामक फर्म का गठन किया. भागलपुर में इस कंपनी ने रावतमल नोपानी छात्रावास बनवाया. सलारपुर गांव में प्रतिष्ठित जगन्नाथ राम उच्च विद्यालय तथा मंदिर आदि का निर्माण कराया. बाद के दिनों में कंपनी का विस्तार कोलकता तथा बंगलोर में किया गया. जहां कंपनी ने महाराजा अग्रसेन अस्पताल का निर्माण किया. वर्ष 1990 के दशक में सलारपुर से इस परिवार के सभी लोग बेहतर व्यवसाय को लेकर स्थायी रूप से पलायन कर गये. लेकिन इलाके के प्रति उनका लगाव आज भी बना हुआ है और जनकल्याणकारी कार्यक्रम का संचालन करने के लिये समय-समय पर धनराशि उपलब्ध कराया जाता रहा है. इस कंपनी में आज की तिथि में इलाके के हजारों युवाओं को नौकरी कर रहे हैं. बताया जाता है कि यह कंपनी इलाके के युवाओं का सबसे बड़ा नियोक्ता है. वर्ष 2003 में जी डी सलारपुरिया का निधन हो गया. लेकिन तबतक उनकी कंपनी विनिर्माण के क्षेत्र में बहुराष्ट्रीय कंपनी बन चुकी थी और आज देश के विभिन्न राज्यों के अलावा 20 देशों में कंपनी का करोबार चल रहा है.

Check Also

दिल्ली नगर निगम के पार्षद पहुंचे अपने पैतृक गांव, किया गया भव्य स्वागत

दिल्ली नगर निगम के पार्षद पहुंचे अपने पैतृक गांव, किया गया भव्य स्वागत

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: