Breaking News

संदीप केडिया के आशीर्वाद सभा से नगर की राजनीति में मची हलचल

लाइव खगड़िया : बिहार नगर पालिका अधिनियम 2007 की संबंधित धाराओं में संशोधन के बाद नगर परिषद में नगर सभापति व उपसभापति का चुनाव जनता को करना है. उल्लेखनीय है कि अब तक जनता सिर्फ वार्ड पार्षद को चुनती थी और जीते हुए पार्षद ही सभापति व उपसभापति का चयन करते थे. लेकिन अब नगर सभापति व उपसभापति का चुनाव जनता की वोट से होना है. बदली स्थिति में खगड़िया नगर परिषद क्षेत्र से सभापति पद की चाहत रखने वाले कई उम्मीदवारों के नाम सामने आने लगे हैं. इस कड़ी में संदीप कडिया का नाम भी तेजी से उभरता हुआ दिखने लगा है.

शहर के दुलारी कथा भवन में रविवार की शाम आयोजित आशीर्वाद सभा में कई दिग्गजों का जुटान कर नगर सभापति के संभावित उम्मीदवार संदीप केडिया ने राजनीतिक इच्छाशक्ति का एहसास करा दिया है. साथ ही उन्होंने आशीर्वाद सभा के बहाने ही शहर की राजनीति में हलचल मचा दी है. इस अवसर पर जदयू के जिला महासचिव आचार्य राकेश पासवान शास्त्री, जदयू के जिला अध्यक्ष बबलू कुमार मंडल, लोजपा (पारस गुट) के जिला अध्यक्ष मोहम्मद मासूम, गोपाल तुलस्यान, शहर के चर्चित चिकित्सक डॉ. एस के पंसारी, प्रमोद केडिया, प्रशांत खण्डेलिया, दीपक बजाज, जदयू की जिला उपाध्यक्ष चन्दन कुमार, जदयू के जिला महासचिव रामविलाश महतो, महेश शर्मा आदि की मौजूदगी चुनाव के दिलचस्प होने का इशारा कर रहा था.

मौके पर वक्ताओं ने कहा कि संदीप केडिया को स्वच्छ छवि का व्यक्ति व सुयोग्य उम्मीदवार बताते हुए वैश्य समाज की एकजुटता पर बल दिया और आगामी नगर परिषद् अध्यक्ष पद के चुनाव में संदीप केडिया को सहयोग व समर्थन देकर आशीर्वाद मांगा. वहीं खगड़िया नगर परिषद् की जर्जर व बदहाल स्थिति की चर्चा की गई और गुणात्मक परिवर्तन लाने का भरोसा दिया गया. इस अवसर पर समाजसेवी संदीप केडिया ने नगर परिषद् अध्यक्ष पद के चुनाव में अपनी दावेदारी देते हुए उपस्थित व्यवसायिक समाज के लोगों से आशीर्वाद मांगा. उन्होंने स्वच्छ, सुन्दर व भयमुक्त खगड़िया का वादा करते हुए नगर को बदतर व नारकीय स्थिति से उवारने का आश्वासन दिया.

मौके पर वरिष्ठ अधिवक्ता अजय कुमार सिंह, जदयू नेत्री सरीता बजाज, अशोक कुमार देव, अरूण सिंह, सज्जन कुमार केडिया, अरूण कुमार वर्मा, पप्पू कुमार, ऋषिकेश, वकिल ठाकुर सहित मारवाड़ी युवा मंच व अखिल भारतीय वैश्य महासभा के कई पदाधिकारी उपस्थित थे.

Check Also

बहुत आसान नहीं लोजपा के किले को भेदना, अतीत के आंकड़े बहुत कुछ बता रहा

बहुत आसान नहीं लोजपा के किले को भेदना, अतीत के आंकड़े बहुत कुछ बता रहा

error: Content is protected !!