Breaking News

बिजली विभाग का 440 वोल्ट, गोपाल के उम्मीदों को 9 वर्षों से झुलसा रहा




लाइव खगड़िया : भले ही सरकार हर घर तक बिजली पहुंचाने का वादा कर रही हो…भले ही बिजली विभाग शिविर लगाकर कनेक्शन देने का दावा कर रहा हो…लेकिन बात जब जिला मुख्यालय के एक उपभोक्ता की सामने आती है तो ऐसे तमाम वादे व दावे के बीच अदम गोंडवी की ये पंक्तियां बरबस ही याद आ जाती है…

तुम्हारी फाइलों में गांव का मौसम गुलाबी है

मगर ये आंकड़े झूठे हैं ये दावा किताबी है ।

उधर जम्हूरियत का ढ़ोल पीटे जा रहे हैं वो

इधर परदे के पीछे बर्बरीयत है,नवाबी है ।।

दर्द भरी दास्तां शहर के जय प्रकाश नगर निवासी गोपाल चौधरी की है.जो विद्युत सेवा बहाल करने के लिए 9 वर्षों में 10 जगहों पर फरियाद लगा चुके हैं.लेकिन उनका विच्छेद हुआ विद्युत कनेक्शन जुड़ नहीं पाया है.इतना ही नहीं बिजली विभाग पटना कंज्यूमर कोर्ट के फैसले की भी अवमानना कर रही है.




अजब विभाग की है गजब कहानी

बात वर्ष 2007 की है जब कॉमर्शियल बिजली कनेक्शन (LTIS-JPN 197) लेने वाले गोपाल चौधरी ने एसबीआई के एडीबी शाखा से लोन लेकर अपना कारोबार शुरू किया था.लेकिन उसी साल खगड़िया में आई भीषण बाढ में तार टूटने से विद्युत सेवा बाधित हो गई.ऐसे में अन्य उपभोक्ताओं की तरह गोपाल चौधरी ने भी अनावश्यक बिल से बचने के लिए बाधित समय में बिजली कनेक्शन विच्छेद ही रखने का आवेदन दिया.बाढ के उपरांत जब शहर में विद्युत सेवा बहाल हुई तो उपभोक्ता के आवेदन पर विभाग के द्वारा कनेक्शन चालू भी कर दिया गया.लेकिन वर्ष 2010 में फिर तार टूटने बाद इसे विभाग द्वारा जोड़ा ही नहीं गया.पीड़ित की मानें तो मामले का हैरतअंगेज पहलू यह भी रहा कि कनेक्शन कटने के बावजूद अलग-अलग डेट में कुल 1 लाख, 23 हजार, 483 रुपए का ना सिर्फ विभाग के द्वारा बिल भेजा गया बल्कि उन्होंने उसका भुगतान भी किया.इस बीच कंज्यूमर फोरम और कंज्यूमर कोर्ट में भी उपभोक्ता के द्वारा मामले को ले जाया गया और वहां भी फैसला उपभोक्ता के ही पक्ष में आया.बावजूद इसके विभाग के कान पर जूं नही रेगीं.ऐसे में गोपाल चौधरी ने लोक शिकायत निवारण केंद्र का भी दरवाजा खटखटाया.साथ ही सांसद से लेकर एसडीओ, डीएम जैसे पदाधिकारियों से फरियाद की.लेकिन विद्युत विभाग का 440 वोल्ट गोपाल च़ौधरी के उम्मीदों को हर बार झुलसाता रहा.

एक तरफ कनेक्शन कटने से विद्युत सेवा बाधित होने की वजह से पीड़ित उपभोक्ता गोपाल चौधरी के चक्की का कारोबार ठप पड़ गया.ऐसे में उन्हें अपने परिवार का भरण-पोषण करने में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता रहा है.दूसरी तरफ इसी बीच बैंक ने लोन चुकाने के लिए वारंट तक जारी कर दी.बहरहाल तमाम मिन्नतें-आरजू व फरियाद के बावजूद 9 वर्षो से गोपाल चौधरी के चक्की को तो बिजली नहीं मिल पाई है.लेकिन वर्षों से विभाग से मिल रहे झटके ने गोपाल चौधरी को अंदर से तोड़ डाला है.



Check Also

प्रमंडलीय आयुक्त ने किया मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्य का निरीक्षण

प्रमंडलीय आयुक्त ने किया मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्य का निरीक्षण

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: