Breaking News

BPSC 67th Prelims Exam : जिले के 20 परीक्षा केन्द्रों पर शामिल होंगे 10.4 हजार परीक्षार्थी

लाइव खगड़िया : आगामी 30 सितंबर को आयोजित होने वाले बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा को जिले में शांतिपूर्ण, पारदर्शी एवं कदाचारमुक्त माहौल में संपन्न कराने को लेकर बुधवार को समाहरणालय के सभागार में एक बैठक का आयोजन किया गया. जिसकी अध्यक्षता जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष एवं पुलिस अधीक्षक अमितेश कुमार ने संयुक्त रूप से किया. मौके पर उन्होंने केंद्राधीक्षक, दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया.

उल्लेखनीय है कि बिहार लोक सेवा आयोग, पटना के द्वारा 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन 30 सितंबर को एक पाली में मध्याह्न 12:00 बजे से अपराह्न 2:00 बजे किया जाना है. जिसको लेकर खगड़िया जिले में कुल 20 परीक्षा केंद्र बनाये गए हैं. बताया जाता है कि सभी परीक्षा केंद्रों पर शांति व्यवस्था बनाए रखने तथा कदाचारमुक्त माहौल में परीक्षा का संचालन के लिए प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर एक पुरुष एवं एक महिला स्टैटिक दंडाधिकारी सह प्रेक्षक, पुलिस पदाधिकारी एवं प्रत्येक 2 केंद्रों पर एक जोनल दंडाधिकारी सह गश्ती दंडाधिकारी प्रतिनियुक्त किए गए हैं. साथ ही उप विकास आयुक्त, जिला पंचायती राज पदाधिकारी एवं अनुमंडल लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी गोगरी को सुपर जोनल दंडाधिकारी बनाया गया है.

परीक्षा को लेकर सदर अनुमंडल में 14 परीक्षा केंद्र एवं गोगरी अनुमंडल में 6 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. जिले में कुल 10416 परीक्षार्थियों को खगड़िया जिले में प्रारंभिक परीक्षा में सम्मिलित होना है. सदर अनुमंडल के 14 परीक्षा केंद्रों पर कुल 7500 परीक्षार्थियों को शामिल होना है. जबकि गोगरी अनुमंडल में 6 परीक्षा केंद्रों पर 2916 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल होंगे.

मिली जानकारी के अनुसार सदर अनुमंडल में जेएनकेटी इंटर स्कूल, बापू मध्य विद्यालय, प्लस टू आर्य कन्या हाई स्कूल, न्यू होली गंगेज पब्लिक स्कूल, प्लस टू एसआर हाई स्कूल, कोशी कॉलेज, महिला कॉलेज, एसएल डीएवी स्कूल, रोज बड एकेडमी, डीएवी स्कूल, संत जेवियर उच्च विद्यालय, राजमाता माधुरी टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज, बीएड टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज एवं मध्य विद्यालय हाजीपुर उत्तरी को परीक्षा केंद्र बनाया गया है. जबकि गोगरी अनुमंडल में एस पी एम इंटर विद्यालय राजधाम, डीएवी पब्लिक स्कूल, महेशखूंट, भगवान इंटर विद्यालय, पीएल शिक्षा निकेतन गोगरी, एम एस रेशनल सैनिक स्कूल एवं गायत्री ज्ञान मंदिर, महेशखूंट में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं.

बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने केंद्राधीक्षकों को पूरी तरह फ्रिस्किंग के पश्चात ही परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति देने का निर्देश देते हुए कहा कि पूरी कड़ाई एवं सतर्कता के साथ परीक्षा संचालित किया जाए. ताकि कोई भी अभ्यर्थी नकल व कदाचार में लिप्त न हो पाएं. वहीं बताया गया कि बिहार लोक सेवा आयोग से प्राप्त निर्देश के आलोक में विलंब से पहुंचने वाले परीक्षार्थियों को परीक्षा में भाग लेने की अनुमति प्रदान नहीं की जाएगी और 11:00 बजे के बाद किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा हॉल में प्रवेश की इजाजत नहीं दी जायेगी.

मौके पर सभी स्टैटिक दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, केंद्राधीक्षक एवं अन्य वीक्षकों को 10:00 बजे तक परीक्षा केंद्र पर पहुंचने का निर्देश देते हुए कहा गया कि अच्छी तरह फ्रिस्किंग करने के बाद ही परीक्षार्थियों को परीक्षा हॉल में प्रवेश करने दिया जाये और महिला परीक्षार्थियों के फ्री स्किन के लिए एक अलग कक्ष अथवा घेरायुक्त स्थल चिन्हित किया जाए. साथ हघ परीक्षा हॉल अथवा कक्ष के अंदर भी वीक्षकों के द्वारा 11:00 बजे से 11:30 बजे पूर्वाह्न के बीच फ्रिस्किंग का निर्देश दिया गया.

वहीं बताया गया कि परीक्षा कक्ष के भीतर लिखित सामग्री, प्रवेश पत्र पर कोई लेख, सादा कागज, क्लिपबोर्ड, स्लाइड रूल, कैलकुलेटर, मोबाइल फोन, ब्लूटूथ उपकरण, डिजिटल डायरी या अन्य कोई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण ले जाना पूर्णतः प्रतिबंधित होगा. साथ ही डीएम ने बिहार लोक सेवा आयोग, पटना से प्राप्त निर्देश के आलोक में सभी केंद्राधीक्षकों एवं दंडाधिकारियों को लगातार भ्रमणशील रहने का निर्देश दिया. वहीं बताया गया कि केंद्राधीक्षक को छोड़कर अन्य कोई वीक्षक अपने पास मोबाइल नहीं रखेंगे. जबकि केंद्राधीक्षक के पास भी बेसिक मोबाइल ही रहेगा.

परीक्षा के सफल संचालन के लिए जिले में नियंत्रण कक्ष की भी स्थापना की गई है और नियंत्रण कक्ष की दूरभाष संख्या 06244- 222135 है. नियंत्रण कक्ष के प्रभार में वरीय उप समाहर्ता चंदन कुमार एवं राज ऐश्वर्याश्री रहेंगे. जबकि परीक्षा के संपूर्ण प्रभार में अपर समाहर्ता सह सहायक परीक्षा संयोजक मो० राशिद आलम एवं रंजीत कुमार सिंह (पुलिस उपाधीक्षक, मुख्यालय) रहेंगे.

बैठक के दौरान बताया गया कि प्रत्येक परीक्षा कक्ष/हॉल में प्रत्येक 24 या उससे कम परीक्षार्थियों पर 2 वीक्षकों को प्रतिनियुक्त किया जाएगा और प्रत्येक अतिरिक्त 24 परीक्षार्थियों के लिए एक अतिरिक्त निरीक्षक प्रतिनियुक्त किए जाएंगे. सभी परीक्षा केंद्रों पर फ्रिस्किंग की एवं सील्ड स्टील बॉक्स को खोलने एवं परीक्षा उपरांत गोपनीय सामग्रियों को पैक करते समय वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी. पूर्वाह्न 11:00 बजे से 11:30 बजे के बीच जोनल दंडाधिकारी द्वारा केंद्राधीक्षक को स्टैटिक दंडाधिकारी के समक्ष प्रश्न पुस्तिका का सील्ड स्टील बॉक्स उपलब्ध कराया जाएगा. परीक्षा प्रारंभ होने के आधा घंटा पूर्व 2 वरीय वीक्षकों एवं स्टैटिक दंडाधिकारी की उपस्थिति में केंद्राधीक्षक प्रश्न पुस्तिका की सीलबंद पैकेट बाहर निकालेंगे. प्रश्न पुस्तिकाओं एवं उत्तर पत्रकों के सील्ड पैकेटों की प्राप्ति एवं पैकेट खोलने की भी वीडियोग्राफी कराई जाएगी. जबकि परीक्षा समाप्ति के पश्चात जोनल दंडाधिकारी केंद्राधीक्षक से गोपनीय सामग्री सील्ड स्टील बॉक्स आदि प्राप्त कर वज्रगृह/कोषागार में प्रतिनियुक्त पदाधिकारी को सुपुर्द करेंगे.

मौके पर जिलाधिकारी ने केंद्राधीक्षकों को सभी वीक्षकों के साथ बैठक कर उन्हें परीक्षा के संबंध में सारी जानकारी एवं प्रक्रिया से पूर्णरूपेण अवगत कराने का निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी हालत में परीक्षा की गोपनीयता भंग नहीं होनी चाहिए और जोनल या अन्य दंडाधिकारी भी परीक्षा हॉल के अंदर मोबाइल लेकर प्रवेश नहीं करेंगे. साथ ही उन्होंने माइक के जरिए निर्धारित प्रवेश के समय की घोषणा करने और निर्धारित समय के अंदर ही सभी परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र के अंदर प्रवेश देने का निर्देश दिया. जबकि दिव्यांगजनों के लिए ग्राउंड फ्लोर पर ही बैठने की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करने को कहा. वहीं बताया गया कि परीक्षा में दृष्टि निशक्त, सेरेब्रल पाॅल्सी से ग्रसित अभ्यर्थियों को श्रुति लेखक उपलब्ध कराने के साथ-साथ अतिरिक्त समय भी दिया जाना है. जिलाधिकारी ने सिविल सर्जन को चार एंबुलेंस की व्यवस्था परीक्षार्थियों के लिए करने का भी निर्देश दिया. ताकि आपात स्थिति में इसका उपयोग किया जा सके.

वहीं पुलिस अधीक्षक ने कहा कि अभ्यर्थियों के फ्रिस्किंग में पुलिस पदाधिकारी भी सहयोग करेंगे और परीक्षा के दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी मोबाइल का प्रयोग नहीं करेंगे. जबकि अपर समाहर्ता ने सभी केंद्र अधीक्षकों को कल सभी केंद्रों में जैमर लगाने का निर्देश दिया. साथ ही उन्होंने अनुमंडल पदाधिकारियों को परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों की भारी भीड़ को देखते हुए यातायात के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करने हेतु विभिन्न चौक चौराहों पर पुलिस पदाधिकारियों एवं दंडाधिकारियों की नियुक्ति करने का निर्देश दिया.

इस अवसर पर अपर समाहर्ता मो राशिद आलम, उप विकास आयुक्त संतोष कुमार, सिविल सर्जन डॉ अमरनाथ झा, जिला पंचायती राज पदाधिकारी मो फैयाज अख्तर, जिला शिक्षा पदाधिकारी कृष्ण मोहन ठाकुर, जिला कोषागार पदाधिकारी एस के मेहरा, गोगरी अनुमंडल पदाधिकारी अमन कुमार सुमन, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सुमित कुमार, विशेष कार्य पदाधिकारी चंदन कुमार सहित परीक्षा में प्रतिनियुक्त सभी दंडाधिकारी, केंद्राधीक्षक एवं पुलिस पदाधिकारी उपस्थित थे.

Check Also

संस्कृत के बिना संस्कृति को बचाना मुश्किल : शंकर शर्मा

संस्कृत के बिना संस्कृति को बचाना मुश्किल : शंकर शर्मा

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: