Breaking News

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 27 बालिकाओं को किया गया सम्मानित

लाइव खगड़िया : राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर मंगलवार को समाहरणालय में सम्मान समारोह आयोजित किया गया. वहीं विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 27 बालिकाओं को सम्मानित किया गया.

कार्यक्रम में शिक्षा, खेलकूद, कला आदि क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 27 बालिकाओं को जिलाधिकारी के द्वारा प्रशस्ति पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया. इस क्रम में हॉकी में राष्ट्रीय स्तर पर बिहार का प्रतिनिधित्व करने वाले नवनीत कौर, सोनम कुमारी, ज्योति कुमारी, पल्लवी कुमारी और शिवानी कुमारी को सम्मानित किया गया. जबकि बैडमिंटन में जेसिका रानी एवं शिवांगी कुमारी को सम्मानित किया गया. इसी तरह कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले बालिकाओं को भी सम्मानित किया गया.

वहीं चित्रकला एवं पेंटिंग में राज्य स्तर पर जिले का प्रतिनिधित्व करने वाली मिली कुमारी, कृतिका झा, अनीशा सिंह एवं कनकलता कुमारी को सम्मानित किया गया. बताया जाता है कि जवाहर नवोदय विद्यालय की कनकलता कुमारी ने पेंटिंग के जरिए आजादी के अमृत महोत्सव के विभिन्न आयामों को कैनवास पर उतारने का काम किया था. जबकि लोक नृत्य में राज्य स्तर पर प्रतिनिधित्व करने वाली मानसा दीप्ति एवं गायन के क्षेत्र में सायना, मान्यता सई, अनीशा सिंह, शांभवी एवं सृष्टि द्विवेदी को सम्मानित किया गया.

इसी तरह रंगोली के लिए फरजाना खातून, ऊंची कूद के लिए फुलसन खातून, शाहीन प्रवीण, सैरून खातून, शाजिया खातून, खुशबू खातून को सम्मानित किया गया. जबकि गीतांजलि कुमारी को कोलकाता में आयोजित विज्ञान एवं गणित प्रदर्शनी में राज्य का प्रतिनिधित्व करने के लिए सम्मानित किया गया.

मौके पर जिलाधिकारी ने महिलाओं के लिए बिहार सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सरकार के द्वारा स्थानीय निर्वाचन, विभिन्न नौकरियों व पुलिस में बहाली में महिलाओं को आरक्षण देते हुए स्वावलंबी और आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है. साथ ही उन्होंने कहा कि सभी क्षेत्रों में महिलाएं बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं. उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का जीवन भी संघर्षपूर्ण रहा है और उन्होंने अवसरों का सदुपयोग व कड़ी मेहनत करते हुए सफलता हासिल की है. आज समाज में बेटे और बेटियों के प्रति भेदभाव की घटनाएं कम हो रही है और बेटियों के प्रति व्यवहार परिवर्तन परिलक्षित हो रहा है. सरकार के द्वारा भी इस संबंध में जन जागरूकता फैलाने का कार्य किया जा रहा है.

इस अवसर पर अपर समाहर्ता मोहम्मद राशिद आलम, डीपीओ (आईसीडीएस) सुनीता, वरीय उप समाहर्ता चंदन कुमार व विजय कुमार, रूबी सीमा (महिला संरक्षण पदाधिकारी), विजय कुमार (डीपीएम, महिला संरक्षण) सहित सभी सीडीपीओ उपस्थित थीं.

Check Also

इंजीनियरिंग में पढ़ने के दौरान नीतीश देखा करते थे सिनेमा भी…

इंजीनियरिंग में पढ़ने के दौरान नीतीश देखा करते थे सिनेमा भी...

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: