Breaking News

धनतेरस पर राशि के अनुसार करें खरीदारी, घर में होगी धन की बरसात

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन धनतेरस का पर्व श्रद्धा व विश्वास से मनाया जाता है. इस दिन देवी लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर के पूजन की परंपरा है. इस अवसर पर कुबेर के अलावा यमदेव को भी दीपदान किया जाता है. बताया जाता है कि धन त्रयोदशी के दिन यमदेव की पूजा करने के बाद घर के मुख्य द्वार पर दक्षिण दिशा की ओर मुख वाला दीपक पूरी रात्रि जलाना चाहिए और इस दीपक में कुछ पैसा व कौड़ी डालना बेहतर होता हे.

धनतेरस में क्या खरीदें !

लक्ष्मी जी व गणेश जी की चांदी की प्रतिमाओं की खरीदारी घर-कार्यालय, व्यापारिक संस्थाओं में धन, सफलता व उन्नति को बढ़ाने वाला माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन भगवान धन्वंतरि समुद्र से कलश लेकर प्रकट हुए थे. इसलिए इस दिन बर्तनों की खरीदारी की जाती है. कहा तो यह भी जा रहा है कि इस दिन बर्तन, चांदी खरीदने से इनमें 13 गुणा वृद्धि होने की संभावना होती है.

धनतेरस पूजन

बताया जाता है कि धनतेरस की पूजा शुभ मुहुर्त में करनी चाहिए. इस दौरान सबसे पहले दीपक जला कर तिजोरी में कुबेर का पूजन करना उत्तम माना जाता है. देव कुबेर का ध्यान करते हुए फूल चढ़ाने और ध्यान कर उन्नति की प्रार्थना करने की परंपरा है

खरीदारी का शुभ मुहूर्त

पंडित अजय कांत ठाकुर ने बताया है कि मिथिला पंचांग के मुताबिक कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन धनतेरस मनाई जाती है और इस वर्ष धनतेरस 22 अक्टूबर को है. त्रयोदशी तिथि 22 अक्टूबर को सायं 4 बजकर 44 मिनट से प्रारंभ होकर 23 अक्टूबर को सायं 5 बजकर 16 मिनट तक रहेगी. इस प्रकार धनतेरस की पूजा के लिए पूरे 24 घंटे का समय मिलेगा.

राशि के अनुसार करें खरीदारी

बताया जाता है कि धनतेरस के दिन नाम राशि के अनुसार खरीदारी करना शुभ माना जाता है.
मेष– इस राशि वाले जातक ताॅबे से निर्मित वस्तुओं की खरीददारी करें तो लाभप्रद रहेगा.
वुष– इस राशि वाले जातक चांदी से निर्मित वस्तुओं की खरीददारी करें. जैसे-चांदी का सिक्का, चम्मच, गणेश जी की मूर्ति आदि.
मिथुन– इस राशि वाले जातक शंख, मोतियों की माला, मछली घर और भगवान विष्णु की मूर्ति खरीद सकते हैं.
कर्क– इस राशि वाले जातक, झीलों तथा पहाड़ों वाली सीनरी, सजावट से सम्बन्धित वस्तु, मैरून रंग के पर्दे, बेडसीट, डिनर सेट आदि खरीदा जा सकता है.
सिंह– इस राशि वाले जातक सोने से निर्मित वस्तुओं की खरीदारी कर सकते है.
कन्या– इस राशि वाले जातक इलेक्ट्रानिक वस्तुओं की खरीददारी कर सकते है. जैसे-मोबाइल, लेपटाट, टीवी, फ्रिज, एसी और मिक्सी आदि.
तुला– इस राशि वाले जातक कृत्रिम ज्वैलरी, दुर्गा जी की मूर्ति और विभिन्न प्रकार के वाहनों की खरीदारी कर सकते हैं.
वृश्चिक– इस राशि वाले जातक पीतल से निर्मित वस्तुओं की खरीदारी कर सकते है.
धुन- इस राशि वाले जातक लाल रंग के गुलदस्ते  खरीदारी कर सकते हैं.
मकर– इस राशि वाली महिलायें चाॅदी से निर्मित वे वस्तुयें जो पैरों में पहनने वाली हो तथा पुरूष एक नारियल खरीद सकते हैं.
कुम्भ– इस राशि वाले जातक हनुमान जी की पंचमुखी की मूर्ति, बांस का पौधा और संगीत से सम्बन्धित वस्तुओं की खरीदारी कर सकते हैं.
मीन– इस राशि वाले जातक चांदी के सिक्के, घड़ी, पेन खरीद सकते हैं.

खड़ा धनिया का महत्व

धनतेरस  के दिन साबुत धनिया खरीदें और इसे दीपावली की रात लक्ष्मी जी के सामने साबुत धनिया रखे रहने दें. अगले दिन प्रात: साबुत धनिए को गमले में बो दें. ऐसी मान्यता है कि अगर साबुत धनिया से हरा-भरा स्वस्थ पौधा निकला तो आर्थिक स्थिति सुदृढ़ रह सकती है और यदि धनिए का पौधा पतला है तो इसे सामान्य आय का संकेत माना जा सकता है. जबकि पीला व बीमार पौधा आर्थिक परेशानियों को इंगित कर सकता है. बहरहाल ऐसी मान्यताएं हैं और ये सभी बातें लोगों की आस्था व विश्वास पर निर्भर करता है.

Check Also

खरना के बाद 36 घंटे का निर्जला उपवास आरंभ, रविवार को छठ का पहला अर्घ्य

खरना के बाद 36 घंटे का निर्जला उपवास आरंभ, रविवार को छठ का पहला अर्घ्य

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: