Breaking News

इस वर्ष की होली है बेहद खास,तीनों संयोग बन रहा इस बार




लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : रंगों का त्योहार होली को लेकर जिले के बाजारों में रंग-अबीर , पिचकारी, रंग-बिरंगे टोपियों की दुकानें सज चुकी है.परदेस में रहने वाले लोगों का घर लौटने का सिलसिला भी जारी है और ट्रेनों में काफ़ी भीड़ देखी जा रही है.कुछ गांवों में होलिका दहन के बाद दूसरे दिन होली खेलने की परंपरा रही है  तो कहीं दिन भर होली खेलकर रात्रि में होलिका दहन किया जाता है.जिले के संसारपुर निवासी पंडित अजय कांत ठाकुर बताते हैं कि होलिका दहन के लिए तीन चीजों का एक साथ होना शुभ होता है.पूर्णिमा दिन , प्रदोष काल और भद्रा न लगा हो तो बेहद शुभ संयोग होता है और इस वर्ष होलिका दहन के लिए यह तीनो संयोग बन रहा है. पंडितों कि माने तो मिथिला पंचांग के मुताबिक  फाल्गुन पूर्णिमा  20 मार्च को सुबह 9:29  मिनट के बाद पर प्रवेश कर रहा है जो 21 मार्च सुबह 07:14 मिनट तक रहेगा.इसलिए होलिका दहन का शुभ मुहूर्त  20 मार्च को रात्रि  08: 22 मिनट के बाद  है.




रंगों का त्योहार होली में एक रंग संस्कृति का भी है जो समाज के सभी भिन्नताएं को मिटा जाती हैं और सब बस एक रंग के हो जाते हैं. वहीं दूसरी और धार्मिक रूप से भी होली एक महत्वपूर्ण त्योहार है.मान्यता है कि इस दिन स्वयं को ही भगवान मान बैठे हिरण्यकश्यप भगवान की भक्ति में लीन अपने ही पुत्र प्रह्लाद को अपनी बहन होलिका के जरिये जिंदा जला देना चाहा था.लेकिन भगवान ने भक्त पर अपनी कृपा की और प्रह्लाद के लिये बनाई चिता में स्वयं होलिका जल गई.इसलिये इस दिन होलिका दहन की परंपरा भी है.

राशि के अनुसार करें रंगों का चयन

मेष :  इस राशि के जातक उत्साही होते हैं. इस बार होली के पर्व पर यदि आप लाल और गुलाबी रंग का इस्तेमाल करेंगें तो यह आपके लिये काफी भाग्यशाली रहेगा.

वृषभ : वृषभ जातकों के लिए यदि कोई रंग सबसे अधिक अनुकूल है तो वह है हल्का नीला और आसमानी रंग.यह रंग उनमे सहजता प्रदान करता है और उनके जीवन में स्थिरता और सौहार्द लेकर आता है.

मिथुन : मिथुन राशि के जातक इस होली पर हल्के हरे रंग से खेल सकते हैं.वैसे नारंगी व गुलाबी रंग भी इनके लिये सही रहेंगें. ये रंग इनमें रोमांच, उत्साह व उर्जा का संचार तो करेंगें ही साथ ही समृद्धि लाने वाले भी साबित होंगें.

कर्क : कर्क राशि के जातक भावुक होते हैं इसलिये इन्हें हल्का नीला, चांदी और सफ़ेद रंग से होली का त्यौहार मनाना चाहिये.इससे इन्हें शांति और धीरज तो मिलेगा ही साथ ही इनके चंचल स्वभाव को सफेद रंग काबू में रख संयमी बनायेगा और आपका त्यौहार काफी अच्छे से मनेगा.

सिंह : सिंह जातक काफी उर्जावान होते हैं.इनकी प्रचडंता को काबू में रखने के लिये महरुम रंग कारगर होगा. इसके अलावा सुनहरा और तांबा रंग भी इस अग्नि राशि के लिए अनुकूल हैं.इन रंगों के प्रभाव से आपके जीवन में सुखसाधन और संपन्नता आयेगी. साथ ही आपके गतिशील व्यक्तित्व से भी इन रंगों की चमक-दमक मेल खाती है.

कन्या : आपके लिये गहरा हरा रंग काफी शुभ रहेगा.इस रंग के प्रयोग से आप अपने अंदर एक नई स्फूर्ति, एक नया जोश को महसूस करेंगें. यह रंग आपके स्वभाव को भी सौम्य बनायेगा जिससे आप इस जोशीले त्यौहार का खुशी के पूरे उन्माद से आनंद ले पायेंगें.

तुला : सफेद रंग के अलावा आप बैंगनी, भूरा और नीले रंग का इस्तेमाल कर सकते हैं. अपने आपको धीर और संयमी बनाये रखने के लिये आप हल्के नीले रंग के वस्त्राभूषण धारण कर सकते हैं. इन रंगों के प्रभाव से आप अपने अंदर आश्चर्यजनक रुप से सुधार महसूस करेंगें.

वृश्चिक : गहरे लाल, मरून, और भूरे रंग से ही वृश्चिक रंग पर बेहतर प्रभाव रहेगा.उनमें से अधिक व्यक्तियों को गहरा लाल रंग चुनना चाहिए.क्योंकि यह रंग उनके सशक्त व्यक्तित्व को उजागर करेगा. इस रंग को धारण कर होली पर्व पर कहीं भी जाएंगे तो बेहतर महसूस करेंगे.

धनु : इस होली पर पीला और संतरी रंग धनु राशि के जातकों के लिये बहुत अच्छा रहेगा. क्योंकि इस राशि के जातक अति उत्साही होते हैं.इसलिये यह रंग इनके लिये बहुत उपयोगी होंगें. इससे आपका स्वभाव खुशनुमा तो होगा ही साथ ही उसमें नम्रता का समावेश भी रहेगा.

मकर : इस राशि के जातक हल्के नीले व आसमानी रंगों का इस्तेमाल करें. इन रंगों के इस्तेमाल से आपमें सकारात्मक उर्जा का संचार होगा व व्यक्तित्व में स्थिरता भी आयेगी.

कुम्भ : इस राशि के जातक के लिए गहरे नीले रंग को काफी शुभ माना जाता है.कुम्भ जातक हमेशा कुछ न कुछ नया करने के प्रयास में रहते हैं. इसलिये यह इनमें उर्जा का संचार तो करेगा ही साथ ही व्यस्ता भरे जीवन में शांति व सुकून भी लेकर आयेगा.

मीन : मीन राशि के जातकों के व्यक्तित्व में अक्सर चटकते-भड़कते रंग भावनात्मक रुप से अच्छा प्रभाव डालने में सक्षम होते हैं.लेकिन पीले या हल्के पीले रंग के इस्तेमाल से इनमें अतिउत्साह व जोश का संचार होगा.


Check Also

ऐतिहासिक पल : परबत्ता में आईटीआई कॉलेज का उद्धाटन

ऐतिहासिक पल : परबत्ता में आईटीआई कॉलेज का उद्धाटन

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: