Breaking News

CRPF का यह जवान युवाओं के हौसले को दे रहे पंख,कर रहे प्रोत्साहित

 


लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्रा) : इन दिनों देश में देशभक्ति की भावनाएं हिलोरें मार रही है और पूरा देश राष्ट्रभक्ति के एक सूत्र में बंधा दिख रहा है.देश के युवाओं का जज्बा व जनून देखते ही बनता है और मातृभूमि की रक्षा के लिए वो सीमा पर जाने को बेताब नजर आ रहे हैं.लेकिन सेना में जाने के लिए कुछ मानक तय हैं और इन तय प्रक्रियाओं को सफलतापूर्वक पूरी करने की दिशा में जिले के युवाओं का मार्गदर्शन एक जवान के द्वारा बखूबी किया जाता रहा है. जिले के परबत्ता प्रखंड अंतर्गत तेमथा करारी पंचायत के सिराजपुर गांव निवासी सीआरपीएफ जवान मिथिलेश कुमार युवाओं के सपने को एक नई उड़ान देने में लगे हुए हैं.साथ ही साथ वे गांव के युवाओं को खेलकूद एवं सेना में भर्ती के लिए भी प्रेरित करते आ रहे है.मिथिलेश कुमार केरल, पश्चिमबंगाल, पूणे, दिल्ली, मणीपुर, झाड़खंड में ड्यूटी के उपरांत वर्तमान में सीआरपीएफ के गया रेंज में कार्यरत हैं.इस क्रम में वे कोवरा बटालियन में भी अपनी सेवाएं दे चुके है.आज भी जब वे छुट्टियों मे अपने गांव आते हैं तो समाज में कुछ नया करने को लेकर हमेशा प्रयत्नशील रहते हैं.




बताया जाता है कि गांव के युवाओं को जब समय का दुरूपयोग करते हुए देखते थे तो उन्हें काफी दुख होता था.ऐसे में उन्होंने स्थानीय युवाओं को खेल-कूद से जोड़कर उनमें प्रतिस्पर्धा की भावना को जगाया.इस दौरान उन्होंने अपने खर्च पर दर्जनों बार दौड़ एवं अन्य खेल प्रतियोगिता का आयोजन कराया.जिसका परिणाम यह निकला कि उनके मार्गदर्शन पर आज दर्जनो युवा सेना में भर्ती हो चुके है.यह प्रक्रिया जारी है और वो आज भी युवाओं के हौसले को एक नया पंख देने की दिशा में लगे हुए हैं.सीआरपीएफ  मिथिलेश कुमार की चाहत है कि हर घर का कम से कम एक युवा सेना में भर्ती होकर देश की रक्षा में डटे रहें.उनकी इसी सोच के कारण सिर्फ जिला ही नहीं बल्कि अन्य जिले के युवा भी उनके संपर्क रहते हैं और वे युवाओं को भर्ती की प्रक्रिया में सफलता प्राप्त करने का टिप्स देकर उन्हें प्रोत्साहित करते हैं.मिली जानकारी के अनुसार वे जल्द ही युवतियों को भी खेल-कूद से जोड़ कर सेना में भर्ती होने को प्रेरित करने वाले हैं.इस क्रम में जिला स्तर पर खेल-कूद प्रतियोगिता का आयोजन जल्द होने की बातें कही जा रही है.


Check Also

सार्वजनिक पुस्तकालय का शिलान्यास

सार्वजनिक पुस्तकालय का शिलान्यास

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: