Breaking News

विजय कुमार यादव मेमोरियल फुटबॉल टूर्नामेंट के उद्घाटन मैच में मुंगेर ने मारी बाजी




लाइव खगड़िया : जिले के रेलवे मैदान मानसी में विजय कुमार यादव मेमोरियल फुटबॉल टूर्नामेंट का उद्घाटन मैच रविवार को मुंगेर बनाम कटिहार के बीच खेला गया.इसके पूर्व उद्घाटन कार्यक्रम में पूर्व खिलाड़ियों,दर्शकों एवं अतिथियों ने पूर्व मुखिया विजय कुमार यादव को 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित किया.

वहीं मैच में दोनों ही टीमों के बीच रोमांचक मुकाबला देखने को मिला.मध्यांतर के बाद खेल के सैंतालीसवें मिनट में कटिहार के जर्सी नंबर दस के खिलाड़ी सोमनाथ ने पहला गोल दाग कर टीम को एक गोल से बढ़त दिला दी.



जबकि खेल के एकसठवें  मिनट में मुंगेर के खिलाड़ी मोहम्मद शाहबाज ने गोल दागकर टीम को बराबरी में ला दिया.इस प्रकार खेल के निर्धारित समय तक दोनों टीम 1-1 गोल की बराबरी पर रही.ऐसे में निर्णायक के द्वारा ट्रायबेकर का निर्णय लिया गया.जिसमें भी दोनों टीम बराबरी पर रही.जिसके उपरांत सडन डेथ में मुंगेर के टीम 6-5 से विजय घोषित किया गया.

मैच में मुख्य निर्णायक के रुप में राहुल मंडल एवं सहायक निर्णायक के तौर पर दयानंद राम,कैलाश पंडित ने अपनी-अपनी भूमिका निभाई. जबकि टूर्नामेंट का उद्घाटन द आर्ट ऑफ लिविंग के स्वामी विष्णु चेतन,युवाशक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी,राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष इंजीनियर धर्मेंद्र कुमार,पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. उमेश प्रसाद सिंह, युवाशक्ति के प्रदेश महासचिव शिवराज यादव, युवाशक्ति के जिला अध्यक्ष चंदन कुमार सिंह,समाजसेवी डॉ. सलिल कुमार,जन अधिकार पार्टी के प्रदेश सचिव सुधांशु कुमार यादव ने दोनों टीम के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर किया.

वहीं अपने संबोधन में द आर्ट ऑफ लिविंग के स्वामी विष्णु चेतन ने कहा कि खेल समाज को विकसित दिशा की ओर ले जाने में सहयोग करता है.खेल ही एक ऐसा साधन है जहां जाति-धर्म और ऊंच-नीच की भावना समाप्त हो जाती है.वहीं युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी ने कहा कि खेल के बिना सुंदर समाज व राष्ट्र की परिकल्पना करना असंभव है.

मौके मनीष कुमार,प्रमोद कुमार सिंह, मृत्युंजय यादव, रंजीत रमन, विजय पौद्दार, राजेश यादव, गौतम यादव, नीतीश यादव, अशोक पंत, हीरानंद सिंह, अभिषेक कुमार, निलेश कुमार, रौशन गुप्ता, शंकर सिंह, आनंद गुप्ता सहित सैकड़ों खेलप्रेमी मौजूद थे.



Check Also

सार्वजनिक पुस्तकालय का शिलान्यास

सार्वजनिक पुस्तकालय का शिलान्यास

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: