Breaking News

इस वर्ष से मंदिर परिसर में ही कात्यायनी महोत्सव का होगा आयोजन




लाइव खगड़िया (मनोज कुमार पटेल) : नववर्ष के अवसर पर मां कात्यायनी मंदिर परिसर में मंगलवार को आयोजित कवि सम्मेलन क उद्घाटन जिलाधिकारी अनिरूद्ध कुमार ,सदर एसडीओ मनेश कुमार मीणा और सदर एसडीपीओ आलोक रंजन के द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित व फीता काटकर किया  गया.उद्घाटन के मौके पर अपने संबोधन में एसडीओ ने कहा कि मंदिर परिसर के बाहर वाहनों के लिए पार्किंग की व्यवस्था के साथ-साथ मंदिर परिसर में जूता-चप्पल रखने की व्यवस्था न्यास समिति के द्वारा किया जायेगा.साथ ही उन्होंने मंदिर के विकास की बातें कही.

वहीं डीएम ने कहा कि विगत दो वर्षों से जिला मुख्यालय में आयोजित होने वाला कात्यायनी महोत्सव इस वर्ष से मंदिर परिसर में ही आयोजित किया जायेगा.साथ ही उन्होंने कहा कि मंदिर के चढ़ावे की राशि से रिटायर्ड पुल की मरम्मती कराई जाएगी. ताकि श्रद्धालुओं को मंदिर आने-जाने में परेशानी न हो.उद्धाटन के उपरांत विभिन्न जगहों से आये कवियों ने अपनी-अपनी कविता पाठ से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया.



दूसरी तरफ नया साल के पहले दिन मां कात्यायनी मंदिर में पूजा के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी थी.सुबह पांच बजे से देर शाम तक मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही.इस क्रम में डीएम सहित अन्य पदाधिकारियों ने भी पूजा किया.इस दौरान कात्यायनी न्यास समिति के द्वारा श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए विशेष व्यवस्था की गई थी.साथ ही सुरक्षा के मद्देनजर भी व्यापक व्यवस्था देखी गई.इस क्रम में रिटायर पुल के दोनों तरफ पुलिस बल को लगाया गया था.मंदिर से सटे कोसी नदी में एसडीआरएफ की टीम मोटर बोट के साथ नदी में गश्ती कर रही थी.

मौके पर नगर परिषद के सभापति सीता देवी,पूर्व सभापति मनोहर यादव,बीडीओ राजकुमार पंडित, मानसी थानाध्यक्ष राघवेंद्र कुमार, न्यास समिति के कोषाध्यक्ष चन्देश्वरी राम, सचिव रामानंद सदा, पूर्व जिला परिषद सदस्य अरुण यादव, मुखिया विजेंद्र यादव, सरपंच भरत यादव, जदयू के प्रखंड अध्यक्ष खड़ग कुमार विजय, जदयू नेता अंकित कुमार सिंह, न्यास समिति के सदस्य संजय प्रसाद साहू, निरंजन यादव, राजेन्द्र भगत, रमन यादव,डॉ.मनोज कुमार,पार्षद चन्द्रशेखर कुमार, रणवीर कुमार आदि मौजूद थे.



Check Also

शांति, सत्य और करुणा के संदेशवाहक थे महात्मा बुद्ध

शांति, सत्य और करुणा के संदेशवाहक थे महात्मा बुद्ध

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: