Breaking News

ग्रामीण डाककर्मियों से हड़ताल समाप्त करने की चीफ पोस्टमास्टर जनरल की अपील




लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : अखिल भारतीय ग्रामीण डाक सेवक संघ एवं राष्ट्रीय ग्रामीण डाक सेवक संघ के आह्वान पर विभिन्न मांगों को लेकर बीते मंगलवार से ग्रामीण डाक कर्मियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाने के उपरांत गुरुवार को पत्र के माध्यम से बिहार सर्किल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल एम.ई.हक ने डाक कर्मचारियों से हड़ताल से वापस लौटने की अपील की है.

इस संदर्भ में डाक विभाग के सुपरिटेंडेंट असिस्टेंट दिनेश्वर साह एवं बेगूसराय क्षेत्र के डाक अधीक्षक सुरेश प्रसाद सिंह ने जानकारी देते हुए बताया है कि चीफ पोस्टमास्टर जनरल ने कहा है कि डाक कर्मचारियों ने पिछली बार भी हड़ताल ऐसे समय पर की थी जब कमलेश चंद्र समिति की सिफारिशों को लागू करने संबंधी प्रक्रिया अपने अंतिम चरण में थी और सरकार की अनुमति प्राप्त होने वाली थी.लेकिन इस बात की पूरी जानकारी होते हुए भी हड़ताल को जारी रखा गया.

साथ ही उन्होंने कहा है कि हड़ताल से जीडीएस कर्मियों को अधिकतम लाभ देने के विभाग के संकल्प में कोई बदलाव नहीं आया है.इस संबंध में विभाग शुरुआत से ही नोडल मंत्रालयों के साथ मिलकर प्रयास कर रहा था.ताकि वित्त संबंधी महत्वपूर्ण सिफारिशों पर अनुमोदन प्राप्त हो सके. यह प्रयास सफल भी रहा और आवश्यक अनुमोदन प्राप्त करने में सफलता भी मिली.लेकिन आदेश जारी हो जाने के बावजूद यूनियन के कार्यालय पदाधिकारियों ने जानबूझकर जीडीएस कर्मियों के बीच यह प्रसार किया गया कि हड़ताल के कारण ही सिफारिशों को अनुमोदित किया गया है.जो की सत्य से परे था.

वहीं उन्होंने सरकार द्वारा डाकघरों में सर्वोत्तम सूचना प्रौद्योगिकी प्रणाली लागू करने, नागरिक केंद्रित सेवा को प्रदान करने तथा आमजनों के लिए इसकी उपयोगिता को बढ़ाने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता जतलाई है.उल्लेखनीय है जिला सहित देश के ग्रामीण डाककर्मी बीते मंगलवार से मांगों के समर्थन में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं.बहरहाल चीफ पोस्टमास्टर जनरल की अपील का हड़ताल पर क्या प्रभाव पड़ता है,यह देखना दीगर होगा.



Check Also

उर्वरक और बीज की कालाबाजारी रोकने में सरकार विफल : पूर्व कृषि मंत्री

उर्वरक और बीज की कालाबाजारी रोकने में सरकार विफल : पूर्व कृषि मंत्री

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: