Breaking News

…और अब तो कहने लगे हैं लोग कि ‘भाई साब ई विभाग नहीं चलेगा’

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : भले ही डाक विभाग समय के साथ बदलने का दंभ भर रहा हो..भले ही डाक विभाग डिजिटल होने की बातें कर रहा हो..भले ही डाक विभाग अपनी सूरत बदलने का सपना देख रहा हो…लेकिन हकीकत में जो स्थितियां उभर कर सामने आ रही है वो ऐसे तमाम दावे व वादे की पोल खोल रही है.साथ ही एक बड़ा सवाल भी खड़ा हो रहा है कि क्या इन्हीं व्यवस्थाओं के बल पर डाक विभाग के अधिकारी ग्राहकों को बेहतर सेवा प्रदान करने का दंभ भर रहे हैं ?

बोरियों में बंद डाक

भारत सरकार की बीएसएनएल नेटवर्क सर्विस के संदर्भ में क्षेत्र में एक आम जुमला काफी चर्चित रहा है कि “भाई साहब नहीं लगेगा”.लेकिन इसे डाक विभाग की मजबूरी कहें या फिर अतिविश्वास कि वो भी इसी बीएसएनएल नेटवर्क सर्विस की सेवाओं के बल पर डिजिटल होने का सपना देख रहा है.दूसरी तरफ जिले के परबत्ता प्रखंड में बीएसएनएल नेटवर्क सेवा विगत दो सप्ताह से ठप रहने से वहां के डाकघर की सेवाएं भी ठप है.इस बीच डाकघर की डाक विगत करीब 15 दिनों से बोरियों में जमा होकर बीएसएनएल सर्विस बहाल होने की राह ताक रही है.बताया जाता है कि डाकघर में पड़ी डाक में कई के नौकरी का नियुक्ति पत्र है तो कुछ के परीक्षा का एडमिड कार्ड तो कोई डाक से आई अपनी मां के दवाई के लिए बेकरार है.ऐसे कई लोंग नित्य डाकघर पहुंचते हैं और डाककर्मियों द्वारा ‘लिंक फेल है’ की बातें सुनकर इन व्यवस्थाओं को कोसते हुए वापस हो जा रहे हैं.यदि ये स्थितियां यूं ही बनी रही तो निश्चय ही डाक विभाग की इस लापरवाही की वजह से कई को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा तो कई छात्र प्रतियोगी परीक्षा में शामील होने से बंचित रह जायेंगे.किसी बीमार द्वारा दवाईयों के इंतजार की कहानी का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है.एक लंबे इंतजार के बाद तो क्षेत्र के लोगों के द्वारा बीएसएनएल के ‘भाई साहब नहीं लगेगा’ के तर्ज पर डाक विभाग पर भी कटाक्ष कसा जाने लगा हैं कि “भाई साहब ये विभाग नहीं चलेगा”.अपने पत्र व पार्सल की इंतजार में परबत्ता के रुपोहली गांव निवासी सुमन कुमार सुमन, कन्हैयाचक के सोनू कुमार,करना के आशीष कुमार आदि कई दिनों से डाकघर का चक्कर काट रहे हैं.दूसरी तरफ मामले पर डाक विभाग के सुप्रिटेन्डेंट असिसडेन्ट दिनेश्वर साह का कहना है कि बीएसएनएल के अधिकारी से संपर्क किया गया है और मंगलवार तक सब ठीक हो जाने की संभावना है.साथ ही उन्होंने बताया कि परबत्ता के उपडाकपाल को निर्देशित किया गया है कि एक्सेल सीट तैयार कर डाकों का वितरण किया जाये.जबकि परबत्ता के उप डाकपाल रामाधार सिंह ने बताया कि डाकघर के कम्प्यूटर में एक्सेल सीट उपलब्ध ही नहीं है.ऐसे में विभाग के वरीय अधिकारी का आदेश व विभाग के स्थिति का सहज ही आंकलन किया जा सकता है.

यह भी पढें : पूर्व मुखिया का कदम-कदम पर 10 दिनों से मौत कर रही थी इंतजार…

Check Also

जदयू कार्यकर्ताओं ने निकाला सतर्कता एवं जागरूकता मार्च

जदयू कार्यकर्ताओं ने निकाला सतर्कता एवं जागरूकता मार्च

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: