Breaking News

मंहगाई के खिलाफ CPI का चरणबद्ध आंदोलन 20 जून से…

खगड़िया : भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का 23वां महाधिवेशन 26 से 29 अप्रैल तक केरल के कोल्लम शहर में आयोजित होने के उपरांत गुरूवार को पार्टी के स्थानीय जिला कार्यालय में पार्टी के राजनीतिक प्रस्ताव सहित अन्य फैसले की रिपोर्टिंग के मद्देनजर  जिला स्तरीय कार्यकर्ताओं की एक बैठक आयोजित की गई.जिसकी अध्यक्षता पुनीत मुखिया के द्वारा किया गया.इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय परिषद सदस्य सह शिक्षा विभाग के केंद्रीय प्राचार्य अनिल राजीव ने रिपोर्टिंग करते हुए कहा कि देश की केंद्रीय सत्ता पर काबिज दक्षिणपंथी प्रतिक्रियावादी दल भाजपा विगत चार वर्षों से आरएसएस एवं विश्व हिंदू परिषद के गुप्त एजेंडे को लागू करने की कोशिश कर रही है. पार्टी महाधिवेशन में आगामी वर्ष के संसदीय चुनाव में भाजपा को हराने के लिए वामजनवादी व धर्मनिरपेक्ष दलों को एक मंच पर लाकर मोर्चा बनाने का राजनीतिक प्रस्ताव को पास किया गया है. जिस प्रस्ताव को सभी वामदलों ने माना है.साथ ही उन्होंने कहा कि यह भारत के इतिहास में पहली बार हुआ है कि सीपीआई के इस राजनीतिक लाइन को सभी वाम दलों ने स्वीकृति प्रदान किया है.भाजपा देश की आम जनों पर महंगाई एवं बेरोजगारी का बोझ लादने का काम कर रही है.उसकी आर्थिक नीतियां की वजह से देशी विदेशी पूंजीपति एवं कॉरपोरेट घराना मालामाल हो रहा है.दुनिया के अन्य देशों की तुलना में डीजल एवं पेट्रोल यहां अधिक कीमत में बिक रहा है.जिसकी वजह से महंगाई आसमान छू रही है.वहीं दूसरी तरफ किसानों को क्रय केन्द्र द्वारा सरकार के समर्थन मूल्य पर गेहूं का क्रय नहीं करने से उन्हें औने-पौने भाव में अनाज बेचना जैसे मजबूरी बन गई है,लेकिन सरकार द्वारा किसानों की समस्याओं के समाधान की दिशा में पहल नहीं की जा रही है.वहीं पार्टी के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह ने कहा कि 23वीं पार्टी कांग्रेस के फैसले के आलोक में बिहार राज्य परिषद ने बिहार में जनता के ज्वलंत सवालों को लेकर आंदोलन चलाने का फैसला लिया है.जिसके तहत 20 जून को पेट्रोल एवं डीजल के मूल्य वृद्धि के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रतिरोध दिवस मनाने का फैसला लिया गया है.वहीं 29 जून को प्रखंड स्तर पर एवं 10 जुलाई को जिला स्तर पर आंदोलन का भी कार्यक्रम तय किया गया है.जबकि आगामी 4 अक्टूबर को 2 लाख से अधिक लोगों को संगठित कर पटना में विशाल रैली के आयोजन पर भी सहमति बनी है.साथ ही उन्होंने कहा कि इन सभी आंदोलनों की सफलता के लिए पार्टी को संगठित करना पड़ेगा.जिसके मद्देनजर शाखा, अंचल, जिला,जोनल की बैठक सहित नुक्कड़ व छोटी-बड़ी आम सभा करने की जरूरत है.वहीं उन्होंने कहा कि 2 से 10 दिसंबर तक राज्यव्यापी पार्टी कोष संग्रह सप्ताह मनाया जाएगा.जिसके तहत पार्टी के शाखा से लेकर राज्य परिषद के सदस्य घर-घर जाकर कोष संग्रह करेंगे तथा साथ ही 4 अक्टूबर को पटना में आयोजित रैली में भाग लेने का अनुरोध भी किया जायेगा.मौके पर सीपीआई राज्य कार्यकारिणी सदस्य प्रभाशंकर सिंह, जिला सचिव प्रभाकर प्रसाद सिंह ने भी संबोधित किया. बैठक में पार्टी के जिला कार्यकारिणी सदस्य रविंद्र यादव, कृष्ण कुमार शर्मा ,अनिल कुमार सिंह ,मनोज सदा, गणेश शर्मा ,बिंदेश्वरी शाह, रोहित सदा, विभाष चंद्र बोस, कैलाश पासवान ,छोटेलाल सिंह सहित पार्टी के सैकड़ों सदस्य उपस्थित थे.

Check Also

शांति, सत्य और करुणा के संदेशवाहक थे महात्मा बुद्ध

शांति, सत्य और करुणा के संदेशवाहक थे महात्मा बुद्ध

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: