Breaking News

Google Map का कमाल, बिछुड़ा बच्चा मिला अपने परिजनों से




लाइव खगड़िया : टेक्नोलॉजी कभी-कभी मुश्किल काम को भी बेहद आसान बना देता है. इसकी एक बानगी बीते दिनों देखने को मिली. जब गूगल की मदद से बिछुड़े हुए एक बच्चे को उनके परिजनों से 24 घंटे के अंदर मिला दिया गया. दरअसल शुक्रवार की रात यूपी के ग्रेटर नोएडा के राकेश कुमार को कान्दली सेक्टर में सड़क पर अपने परिजनों से बिछुड़ कर रोता हुआ एक बच्चा मिला. अपनों से बिछुड़ने पर बच्चा इतना घबराया हुआ था कि वो उस वक्त अपना नाम व पता भी नहीं बता पा रहा था. ऐसे में रात में राकेश बच्चे को अपने घर ले आया. सुबह में बच्चे ने अपना नाम रकिम, पिता का नाम सकीम और घर खगड़िया के जोगिया बताया.




बच्चे द्वारा ग्रेटर नोएडा से कोसों दूर का बताया गया पता राकेश की मुश्किलें बढ़ा दी. ऐसे में राकेश ने इस पता को Google Map पर डालकर सर्च किया तो उस जगह के लैंड मार्क पर किसी भी व्यक्ति का संपर्क नंबर नहीं मिला. लेकिन Google Map उसके बगल के गांव हरिपुर के शिव मंदिर पर अनिमेश आंनद का नंबर मिला. जिसके बाद ग्रेटर नोएडा से राकेश ने खगड़िया के अनिमेश के नंबर पर बात कर मामले की जानकारी देते हुए बच्चे की तस्वीर और उसके द्वारा बताया जा रहा पता  WhatsApp के माध्यम से भेजा. हलांकि अनिमेश भी पढाई के सिलसिले में अपने घर से दूर था. लेकिन उन्होंने स्थानीय स्तर पर  WhatsApp और Facebook के माध्यम से बिछुड़े हुए बच्चे की तस्वीर को वायरल किया. आखिरकार अनिमेश की 3-4 घंटे की मेहनत रंग लाई और मो. चांद आलम नामक एक व्यक्ति ने उनसे संपर्क किया और बच्चे की पहचान करते हुए ग्रेटर नोएडा में रह रहे बच्चे के पिता का नंबर उपलब्ध कराया. जिसके उपरांत बच्चे के पिता से संपर्क कर राकेश ने ग्रेटर नोएडा के परी चौक पर उसे उनके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया. उल्लेखनीय है कि बच्चा जिले के अलौली थाना क्षेत्र के जोगिया गांव निवासी मो. सकीम का पुत्र था. जो अपने माता-पिता के साथ ग्रेटर नोएडा में रहा करता था. जबकि बच्चे की पहचान और उसके पिता का संपर्क नंबर उपलब्ध कराने वाला मो. चांद उसी गांव के निवासी हैं.


Check Also

सर्वदलीय छात्र संघ के गठन को लेकर कवायद शुरू

सर्वदलीय छात्र संघ के गठन को लेकर कवायद शुरू

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: