मुजफ्फरपुर से स्थानांतरण की सूचना पर डीएम आलोक रंजन घोष हो गए भावुक – Live Khagaria
Breaking News

मुजफ्फरपुर से स्थानांतरण की सूचना पर डीएम आलोक रंजन घोष हो गए भावुक

लाइव खगड़िया : यूं तो सरकारी सेवाओं में तबादला एक सामान्य सी प्रक्रिया है. लेकिन यह भी एक सच्चाई है कि कार्यकाल के दौरान किसी अधिकारी की कार्यशैली और उनका वहां के लोगों से भावनात्मक लगाव ही उन्हें महान बनाता है और निश्चय ही क्षेत्र से किसी अधिकारी के भावनात्मक लगाव को देख कर उनकी कार्यशैली का भी सहज अनुमान लगाया जा सकता है. मुजफ्फरपुर से स्थानांतरण की सूचना के बाद वहां के डीएम आलोक रंजन घोष का एक पोस्ट सोशल साइट पर तेजी से वायरल हो रहा है. उल्लेखनीय है कि मुजफ्फरपुर के निवर्तमान डीएम आलोक रंजन घोष अब खगड़िया की जिम्मेदारी संभालेंगे. मुजफ्फरपुर से स्थानांतरण की सूचना पर उन्होंने अपनी भावनाओं को कुछ यूं व्यक्त किया है…




प्रिय मुज़फ़्फ़रपुर !

हाँ अब तुमसे विदा होने की बेला आ गयी। वो कहते हैं न कि जो आया है उसे तो जाना ही है पर जाने क्यों एक जुड़ाव से हो गया था तुमसे। इस बात की पीड़ा तो है पर समय के साथ इसे भी सहना सीख गया हूँ मैं ।

इस दौरान कई चुनौतियां आईं पर तुमने ही तो सबसे जूझना सिखाया। मुझे अंदर से सशक्त बनाया । वैसे यहां हर एक वाकये ने मुझे कुछ सिखाया ही है। एक विश्वास जगाया है कि अब कोई भी बाधा लांघ सकता हूँ मैं.. जीत सकता हूँ मैं।

इतना ज़रूर है की जब भी बैठूंगा कभी फुरसत में, यादों का ताना बाना बुनने तो याद ज़रूर आएगा वो बाबा का मंदिर, वो दाता कम्बलशाह की मजार, वो मोतीझील बाजार। मनसपटल पर सदा अंकित रहेंगी यहां की खट्टी मीठी बातें , वो भांति भांति के लोग और वो मुज़फ़्फ़रपुर की स्पेशल गर्मजोशी।




यहां खुशी और गम के कई पल देखे .. उनका अनुभव किया..आत्मसात किया। यहां जीत भी देखी और कई मासूमो को जीवन से हारते भी देखा । यूं कह लें कि एक मिश्रित एहसास रहा।

वैसे मैंने हर समय तुममे संभावना तलाशी , कोशिश की तुम्हें समझने की, पर तुम इतने गहरे थे कि वो संभव ही न हो सका। अब तो लगने सा लगा था कि जानने लगें हैं हम एक दूसरे को और ये विदाई का क्षण आ गया। कई सोची हुई बातें सोच तक ही सीमित रह गईं। परंतु मेरा मानना है कि जो होता है अच्छे के लिए ही होता है, इसलिए आशान्वित भी हूँ।

मैं जानता हूँ कि तुम्हें भुला पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है पर सच कहूँ तो शायद मैं भी तुम्हें कभी भूलना ही नहीं चाहता। तुम खुश रहो, सदा आबाद रहो । और हाँ डटे रहो .. क्योंकि मार्ग प्रशस्त करना है तुम्हें और भी आगे। हर एक पल के लिए तुम्हारा धन्यवाद ।

अलविदा!

फिर मिलेंगे। ज़रूर मिलेंगे

तुम्हारा अपना

आलोक घोष

नाम तो याद रहेगा ना ?

17 फरवरी 2020



Check Also

सोशल मीडिया पर भी पुलिस की नजर,एसपी द्वारा साइबर सेल यूनिट टीम गठित

लाइव खगड़िया : पर्व -त्योहार के अवसर पर अमूमन ऐसा देखा जाता है कि असामाजिक …

error: Content is protected !!