Breaking News
Home / Recent / महासेतु के एप्रोच पथ के लिए पसराहा से शेरचकला तक की बाधा दूर

महासेतु के एप्रोच पथ के लिए पसराहा से शेरचकला तक की बाधा दूर

लाइव खगड़िया (मुकेश कुमार मिश्र) : अगुवानी-सुल्तानगंज के बीच गंगा नदी पर निर्माणाधीन महासेतु के एप्रोच पथ के निर्माण कार्य की बाधा दूर हो गई है और पसराहा से शेरचकला तक एप्रोच पथ के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया तेज हुई है. बताया जाता है कि जमीन अधिग्रहण के साथ ही एप्रोच पथ के निर्माण का रास्ता  साफ हो गया है. गौरतलब है कि अगुवानी घाट से पसराहा तक 20 किलोमीटर एप्रोच रोड का निर्माण होना है. जिसको लेकर गोगरी के पसराहा की तरफ से शेर चकला के समीप बुधवार को 65 मीटर की चौड़ाई से लगभग एक किलोमीटर तक सड़क एप्रोच पथ क्लियर कर दिया गया है.इस क्रम में एडीएम शत्रुंजय मिश्रा, एसडीओ सुभाषचंद्र मंडल, डीसीएलआर मो. मुस्तकीम, सीओ कुमार रविन्द्रनाथ, पसराहा के थानाध्यक्ष प्रियरंजन कुमार सहित कई वरीय पदाधिकारियों की उपस्थिति में शेरचकला के पास भूमि अधिग्रहण में आ रही बाधाओं को दूर किया गया और साथ ही सड़क निर्माण का रास्ता भी साफ हो गया.




मौके पर गोगरी एसडीओ सुभाषचंद्र मंडल ने बताया कि महासेतु के एप्रोच पथ का निर्माण कार्य पुल निर्माण कंपनी एसपी सिंगला द्वारा किया जाना है. मिली जानकारी के अनुसार एप्रोच पथ के लिये कुल 1,98,479 एकड़ भूमि अधिग्रहण कर निर्माण कंपनी को सौंपा जाना है. उधर पुल निर्माण कंपनी एसपी सिंगला के द्वारा निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर जारी है. अगुवानी क्षेत्र मे निर्माणाधीन कुआं संख्या 15 को छोड़कर दोनों और के सभी 28 पिलर का निर्माण कार्य लगभग पूर्ण कर लिया गया है और सुपर स्ट्रैचर एवं छत ढलाई का काम चल रहा है. उधर मुख्यधारा में अवस्थित पिलर संख्या 6  से 13 तक निर्माण कार्य शुरू करने के लिये बड़े वोट की मदद से पिलर के चारो और निर्माण सामग्री को पहुंचाया जा रहा है. जबकि उपधारा के पिलर संख्या 16 से 19 तक छत ढलाई का कार्य भी अंतिम चरण में है.




उल्लेखनीय है कि बिहार सरकार के इस महत्वाकांक्षी परियोजना की लागत का आरंभिक मूल्यांकन 171077 करोड़ किया गया था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 23 फरवरी 2014 को परबत्ता के एमडी कॉलेज मैदान में इसका शिलान्यास किया था तथा 9 मार्च 2015 को मुरारका कॉलेज सुलतानगंज के मैदान से सीएम ने पुल निर्माण  का कार्यारम्भ किया गया. इस पुल के निर्माण से उत्तर तथा दक्षिण बिहार के बीच का फासला काफी कम हो जायेगा. साथ ही प्रति वर्ष श्रावणी मेला में देवघर जाने वाले लाखों काँवरियों को भी इसका फायदा मिलेगा.

पुल की विशेषता

फोर लेन पुल, जिसमें दो- दो लेन का दो अलग-अलग पुल बनेगा

गंगा की मुख्यधारा में केबल पर झूलता होगा पुल

बीच के दो पिलरों के बीच 125 मीटर की दूरी होगी.

पुल की कुल लंबाई -3.160 किलोमीटर

इन्टेलीजेन्ट ट्रॉफिक प्रणाली

पहुंच पथ की लंबाई 25 किमी

डॉल्फिन वेधशाला

पुल प्रदर्शिनी एवं रेस्ट एरिया

प्रकाश प्रणाली

व्हेकिल अंडरपास

रोटरी ट्रॉफिक

4×4 टॉल प्लाजा

मार्च 2015 से ही एसपी सिंगला कंस्ट्रक्शन कम्पनी दिन-रात एक कर फोरलेन महासेतु का निर्माण कार्य में लगी हुई है. जिले के पसराहा के पास राष्ट्रीय उच्च पथ 31 एवं मुंगेर-भागलपुर राष्ट्रीय उच्च पथ 80 के सुल्तानगंज के पास फोरलेन सड़क का मिलान किया जाना है. आगामी मार्च 2020 तक इस महासेतु पर आवागमन शुरू करने का विभागीय निर्देश है.


Check Also

पटना के बाद निगाहें दियारा क्षेत्र पर, 10 दिसंबर को पप्पू यादव की पदयात्रा

लाइव खगड़िया : जन अधिकार पार्टी के किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष मनोहर कुमार यादव, …